Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2016 · 1 min read

जवाँ हो जाये

तन ये मेरा जवान हो जाये
याद में ये मकान हो जाये

प्यार तेरा मिला नहीं मुझको
दिल जले तो मसान हो जाये

प्यार में चोट मिली दिल को
आज फिर बागबान हो जाये

बन पंक्षी छू जरा गगन को तू
चाह में आसमान हो जाये

रूप हमको मिले सदा ऐसा
देखने की दुकान हो जाये

है तमन्ना मिलूँ तुझे मै अब
स्वर मिले आज तान हो जाये

देवता ही समझ पूजा उसको
वो पूजा के समान हो जाये

बाबली हो गयी विरह में मैं
नाथ आये तो जान हो जाये

मौत के बाद तू चला जाये
इसलिए अंगदान हो जाये

70 Likes · 418 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
अनिल कुमार
कोरोंना
कोरोंना
Bodhisatva kastooriya
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गीत गाने आयेंगे
गीत गाने आयेंगे
Er. Sanjay Shrivastava
विश्व कप
विश्व कप
Pratibha Pandey
*लम्हा  प्यारा सा पल में  गुजर जाएगा*
*लम्हा प्यारा सा पल में गुजर जाएगा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
“प्रतिक्रिया, समालोचना आ टिप्पणी “
“प्रतिक्रिया, समालोचना आ टिप्पणी “
DrLakshman Jha Parimal
जितना अता किया रब,
जितना अता किया रब,
Satish Srijan
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
तुम्हारे जाने के बाद...
तुम्हारे जाने के बाद...
Prem Farrukhabadi
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
Shashi kala vyas
वृक्ष धरा की धरोहर है
वृक्ष धरा की धरोहर है
Neeraj Agarwal
तकल्लुफ नहीं किया
तकल्लुफ नहीं किया
Dr fauzia Naseem shad
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
Surinder blackpen
God is Almighty
God is Almighty
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#तेवरी
#तेवरी
*Author प्रणय प्रभात*
बैठी रहो कुछ देर और
बैठी रहो कुछ देर और
gurudeenverma198
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
Phool gufran
Ram Mandir
Ram Mandir
Sanjay ' शून्य'
बाल कविता: चिड़िया आयी
बाल कविता: चिड़िया आयी
Rajesh Kumar Arjun
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
Arvind trivedi
मित्रता:समाने शोभते प्रीति।
मित्रता:समाने शोभते प्रीति।
Acharya Rama Nand Mandal
वार
वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
ऋतु परिवर्तन
ऋतु परिवर्तन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सितमज़रीफ़ी
सितमज़रीफ़ी
Atul "Krishn"
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
Manisha Manjari
You are not born
You are not born
Vandana maurya
Loading...