Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2017 · 1 min read

जल ही जीवन है

जल ही जीवन है,
जल के बिना जीवन
असंभव है।

जल ही हमारी प्यास बुझाती ,
नहाने धोने के काम है आती।

जल की ना करें बर्बादी
जितनी हो जरुरत ,
उतनी ही काम है लानी।

जल के बिना कोई,
काम ना होता
इसके लिए सारा जग रोता।

जल कृषि के काम है आती,
अगर ना हो जल,
तो फसल कहाँ से लहराती।

इसलिए जल की ,
ना करें बर्बादी

नाम-ममता रानी, राधानगर(बाँका)

Language: Hindi
2 Likes · 527 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Rani
View all
You may also like:
शून्य से अनंत
शून्य से अनंत
The_dk_poetry
सत्य और अमृत
सत्य और अमृत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"चिन्तन का कोना"
Dr. Kishan tandon kranti
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
DrLakshman Jha Parimal
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Vandna Thakur
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मै भी सुना सकता हूँ
मै भी सुना सकता हूँ
Anil chobisa
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
अनवरत....
अनवरत....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
सत्य कुमार प्रेमी
बेइमान जिंदगी से खुशी झपट लिजिए
बेइमान जिंदगी से खुशी झपट लिजिए
नूरफातिमा खातून नूरी
"शीशा और रिश्ता बड़े ही नाजुक होते हैं
शेखर सिंह
*तुम्हारा साथ जब मिलता है, तो मस्ती के क्या कहने (मुक्तक)*
*तुम्हारा साथ जब मिलता है, तो मस्ती के क्या कहने (मुक्तक)*
Ravi Prakash
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कहने को आज है एक मई,
कहने को आज है एक मई,
Satish Srijan
"जंगल की सैर”
पंकज कुमार कर्ण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
#बधाई
#बधाई
*Author प्रणय प्रभात*
बेटी
बेटी
Akash Yadav
"गाँव की सड़क"
Radhakishan R. Mundhra
मातृ भाषा हिन्दी
मातृ भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
3501.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3501.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
क्या हुआ ???
क्या हुआ ???
Shaily
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...