Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2019 · 1 min read

जलियाँ वाला बाग बोल रहा हूँ —आर के रस्तोगी

जलियाँ वाला बाग बोल रहा हूँ,जालिम डायर की कहानी सुनाता हूँ |
निहत्थो पर गोली चलाई थी,मरने वालो की चीखे सुनाता हूँ ||

चश्मदीद गवाह था मै यह सब कुछ द्र्श्य वहां देख रहा था |
मेरे आँखों में आँसू थे, पर डर के मारे न बोल रह रहा था ||

13 अप्रैल 1919 बैशाखी का दिन था,यहाँ काफी वीर सपूत आये थे |
रोलेट एक्ट के विरोध में ,ये सब मीटिंग करने यहाँ पर ये आये थे ||

सौ वर्ष के बाद भी आज उनकी चीखे सुनाई देती है |
उनकी आत्मायें भी आज सपनों में कुछ कह देती है ||

उधम सिंह था एक देश भक्त जिसने ख़ूनी डायर को मारा था |
चने चबाते चबाते लन्दन में उसने घर में घुस कर मारा था ||

उधम सिंह 11 साल का बालक था,जब उसने ये घटना देखी थी |
कसम खाई उसी दिन उसने जनरल डायर को मारने की ठानी थी ||

करता रहा 21 साल तक कोशिश,गरीब वह अपने घर से था |
मेहनत मजदूरी कर कर के वह पहुचा लन्दन उसके घर में था ||

चलाई तीन गोलियां डायर पर जब वह बदला ले लिया बोल रहा था |
कर दिया सरेंडर अपने आप को उसने अपने जीवन से खेल रहा था ||

आर के रस्तोगी
मो 9971006425

Language: Hindi
1 Like · 167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
ऐंचकताने    ऐंचकताने
ऐंचकताने ऐंचकताने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हक़ीक़त है
हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
Mohan Pandey
मेरी बिटिया
मेरी बिटिया
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Bodhisatva kastooriya
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
LOVE-LORN !
LOVE-LORN !
Ahtesham Ahmad
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
Neeraj Agarwal
"हार व जीत तो वीरों के भाग्य में होती है लेकिन हार के भय से
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
शब्द अभिव्यंजना
शब्द अभिव्यंजना
Neelam Sharma
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
*
*"ममता"* पार्ट-4
Radhakishan R. Mundhra
जाओ कविता जाओ सूरज की सविता
जाओ कविता जाओ सूरज की सविता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
manjula chauhan
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
सभी धर्म महान
सभी धर्म महान
RAKESH RAKESH
है तो है
है तो है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
अहं प्रत्येक क्षण स्वयं की पुष्टि चाहता है, नाम, रूप, स्थान
अहं प्रत्येक क्षण स्वयं की पुष्टि चाहता है, नाम, रूप, स्थान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फटा ब्लाउज ....लघु कथा
फटा ब्लाउज ....लघु कथा
sushil sarna
प्रेम जब निर्मल होता है,
प्रेम जब निर्मल होता है,
हिमांशु Kulshrestha
जब दादा जी घर आते थे
जब दादा जी घर आते थे
VINOD CHAUHAN
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
भारत बनाम इंडिया
भारत बनाम इंडिया
Harminder Kaur
"पेंसिल और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
surenderpal vaidya
सवैया छंदों के नाम व मापनी (सउदाहरण )
सवैया छंदों के नाम व मापनी (सउदाहरण )
Subhash Singhai
टूटकर बिखरना हमें नहीं आता,
टूटकर बिखरना हमें नहीं आता,
Sunil Maheshwari
*धर्मप्राण श्री किशोरी लाल चॉंदीवाले : शत-शत नमन*
*धर्मप्राण श्री किशोरी लाल चॉंदीवाले : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
Loading...