Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2022 · 1 min read

जर्मनी से सबक लो

इतिहास दे रहा है
आवाज़ तुम्हें!
फ़ैसला करना होगा
एक आज तुम्हें!!
जो बर्बाद हुआ था
अंधभक्ति में!
वह नाज़ी जर्मनी
है न याद तुम्हें!!
#media #विपक्ष #राजनीति #महंगाई
#नायक_पूजा #heroworship #कवि #फनकार #बेरोजगारी #दरबारीगायक #लेखक #public #SupremeCourt

Language: Hindi
1 Like · 185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धरती के भगवान
धरती के भगवान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भिखारी का बैंक
भिखारी का बैंक
Punam Pande
नागपंचमी........एक पर्व
नागपंचमी........एक पर्व
Neeraj Agarwal
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा लिखित पुस्तक
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा लिखित पुस्तक "करीमा" का ब्रज भाषा में अनुवाद*
Ravi Prakash
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" लहर लहर लहराई तिरंगा "
Chunnu Lal Gupta
"YOU ARE GOOD" से शुरू हुई मोहब्बत "YOU
nagarsumit326
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
पूर्वार्थ
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
Shekhar Chandra Mitra
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
DrLakshman Jha Parimal
झूठ रहा है जीत
झूठ रहा है जीत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
समझ
समझ
Shyam Sundar Subramanian
"अपने की पहचान "
Yogendra Chaturwedi
Adhere kone ko roshan karke
Adhere kone ko roshan karke
Sakshi Tripathi
"सब्र का इम्तिहान लेता है।
*Author प्रणय प्रभात*
बहुत बार
बहुत बार
Shweta Soni
💐💞💐
💐💞💐
शेखर सिंह
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
इसकी औक़ात
इसकी औक़ात
Dr fauzia Naseem shad
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
Damini Narayan Singh
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
आर.एस. 'प्रीतम'
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
Vishal babu (vishu)
"क्या होगा?"
Dr. Kishan tandon kranti
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
3176.*पूर्णिका*
3176.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब न वो आहें बची हैं ।
अब न वो आहें बची हैं ।
Arvind trivedi
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
gurudeenverma198
Loading...