Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

जरूरी बहुत

गीतिका
~~
जरूरी बहुत तिश्नगी को बुझाना।
इसी हेतु है व्यस्त सारा जमाना।

मुहब्बत इसी को कहा है सभी ने।
सभी चाहते लुत्फ इसका उठाना।

मिलन की उठी प्यास तीखी बहुत है।
हमें है सभी दूरियों को मिटाना।

यहां कौन तृष्णा रहित है जहां में।
हमें नित्य है स्नेह निर्झर बहाना।

सघन सावनी घन घिरे हैं गगन में।
बरस कर धरा को सरस है बनाना।

बुझे प्यास सबकी बहे स्नेह निर्झर।
हमें है यहां हर नदी को बचाना।
~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०८/०५/२०२४

2 Likes · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
​जिंदगी के गिलास का  पानी
​जिंदगी के गिलास का पानी
Atul "Krishn"
पश्चाताप
पश्चाताप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
प्राणवल्लभा 2
प्राणवल्लभा 2
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
सच
सच
Neeraj Agarwal
मैं होता डी एम
मैं होता डी एम"
Satish Srijan
शिशुपाल वध
शिशुपाल वध
SHAILESH MOHAN
🌸मन की भाषा 🌸
🌸मन की भाषा 🌸
Mahima shukla
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
🙅समझ जाइए🙅
🙅समझ जाइए🙅
*प्रणय प्रभात*
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
sushil sarna
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
gurudeenverma198
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुस्कुराना सीख लिया !|
मुस्कुराना सीख लिया !|
पूर्वार्थ
लोग तो मुझे अच्छे दिनों का राजा कहते हैं,
लोग तो मुझे अच्छे दिनों का राजा कहते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
जब प्यार है
जब प्यार है
surenderpal vaidya
मज़दूर दिवस विशेष
मज़दूर दिवस विशेष
Sonam Puneet Dubey
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
शुभ को छोड़ लाभ पर
शुभ को छोड़ लाभ पर
Dr. Kishan tandon kranti
पग मेरे नित चलते जाते।
पग मेरे नित चलते जाते।
Anil Mishra Prahari
संस्कृतियों का समागम
संस्कृतियों का समागम
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कुसुमित जग की डार...
कुसुमित जग की डार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बुंदेली दोहा- अस्नान
बुंदेली दोहा- अस्नान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शनि देव
शनि देव
Sidhartha Mishra
गुरु
गुरु
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3380⚘ *पूर्णिका* ⚘
3380⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मोहन कृष्ण मुरारी
मोहन कृष्ण मुरारी
Mamta Rani
Loading...