Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 1 min read

जरा विचार कीजिए

आत्म मंथन जरा विचार कीजिए

वृक्ष लगाए,फोटो खींची,और चल दिए।
भूले पानी देना,भूले रख रखाव सब,
रुको,जरा सोचो, क्या जग हित काज किए?

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

Language: Hindi
1 Like · 209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
Mahesh Tiwari 'Ayan'
एक दिन का बचपन
एक दिन का बचपन
Kanchan Khanna
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
पावस की रात
पावस की रात
लक्ष्मी सिंह
*ज्ञानी (बाल कविता)*
*ज्ञानी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
Manisha Manjari
हम कवियों की पूँजी
हम कवियों की पूँजी
आकाश महेशपुरी
कितने भारत
कितने भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Trying to look good.....
Trying to look good.....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ध्यान
ध्यान
Monika Verma
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
gurudeenverma198
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
Satish Srijan
स्वच्छंद प्रेम
स्वच्छंद प्रेम
Dr Parveen Thakur
श्री राम राज्याभिषेक
श्री राम राज्याभिषेक
नवीन जोशी 'नवल'
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भला दिखता मनुष्य
भला दिखता मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
*लम्हा  प्यारा सा पल में  गुजर जाएगा*
*लम्हा प्यारा सा पल में गुजर जाएगा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
2435.पूर्णिका
2435.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दशावतार
दशावतार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल का तुमको
दिल का तुमको
Dr fauzia Naseem shad
किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा
किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
हिन्दी हमारी शान है, हिन्दी हमारा मान है।
हिन्दी हमारी शान है, हिन्दी हमारा मान है।
Dushyant Kumar
Loading...