Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2021 · 1 min read

*जय हिंदी* ⭐⭐⭐

(हिंदी दिवस पर विशेष)
जय हिंदी
⭐⭐⭐

°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°

जो भी करे, निज मात-पिता से प्यार;
वह हिंदी पर , कभी भी ना करे प्रहार;
हिंदी ही सदा , राष्ट्र में एकता लाएगी;
हमारी हर संस्कृति को, यही बचाएगी।
जो जनता न अपनाये हिंदी भाषा को;
झलकाये मन, उसकी गंदी आशा को;
यही तो अब , भाषाई अभिभावक है;
जैसे धरम-करम हेतु , कोई पावक है।
तरनी गंगा हो, या हो सरिता कालिंदी;
हर पावनी धारा में बसे सदा ही, हिंदी;
अपगा कावेरी से, लहरी सतलज तक;
हिंदी ही दिखे अब , हर पग-पग तक।
गिरि नीलगिरी से अचल हिमालय तक,
अपनी हिंदी ही बसे , हर आलय तक;
यह है , जन- जन की अपनी ही भाषा;
राष्ट्रभाषा हेतु नियम का मोहताज नहीं;
अखंड भारत का भी था , सरताज यही;
देश क्या, विदेशों की भी ये भाषा होगी;
भले देशद्रोहियों को,इससे निराशा होगी;
जो यह हिंदी ना होगी, जन-गण-मन में;
दिखेगा हिंदुस्तान कहां,किसी अंतर्मन में;
हर घर बसेगा तब,तालिबान यहां क्षण में;
इसने ही बचा रखा है, इस पूरे भारत को;
आगे भी यही, देश और संसार बचायेगा;
वो देशी नर नहीं,जो ‘जय हिंदी’ न गाएगा।

“जय हिंद”………………………”जय हिंदी”

*******************************
स्वरचित सह मौलिक:-
……..✍️ पंकज ‘कर्ण’
…………….कटिहार।।

Language: Hindi
7 Likes · 3 Comments · 1053 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
ऐसा क्या लिख दू मैं.....
ऐसा क्या लिख दू मैं.....
Taj Mohammad
राम जैसा मनोभाव
राम जैसा मनोभाव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
“अकेला”
“अकेला”
DrLakshman Jha Parimal
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
पूर्वार्थ
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
बैलगाड़ी के नीचे चलने वालों!
बैलगाड़ी के नीचे चलने वालों!
*Author प्रणय प्रभात*
सबूत ना बचे कुछ
सबूत ना बचे कुछ
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-442💐
💐प्रेम कौतुक-442💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुद पर यकीं
खुद पर यकीं
Satish Srijan
*दुआओं का असर*
*दुआओं का असर*
Shashi kala vyas
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sakshi Tripathi
मन-गगन!
मन-गगन!
Priya princess panwar
तेरे दिल में कब आएं हम
तेरे दिल में कब आएं हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रोना भी जरूरी है
रोना भी जरूरी है
Surinder blackpen
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
kaustubh Anand chandola
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
ruby kumari
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
Santosh Soni
द़ुआ कर
द़ुआ कर
Atul "Krishn"
मारा जाता सर्वदा, जिसका दुष्ट स्वभाव (कुंडलिया)*
मारा जाता सर्वदा, जिसका दुष्ट स्वभाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
Harminder Kaur
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
Vishal babu (vishu)
एक मुट्ठी राख
एक मुट्ठी राख
Shekhar Chandra Mitra
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
Rj Anand Prajapati
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
घर के राजदुलारे युवा।
घर के राजदुलारे युवा।
Kuldeep mishra (KD)
3239.*पूर्णिका*
3239.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कौन सोचता बोलो तुम ही...
कौन सोचता बोलो तुम ही...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...