Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2021 · 1 min read

*जय हिंदी* ⭐⭐⭐

(हिंदी दिवस पर विशेष)
*जय हिंदी*
⭐⭐⭐

°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°

जो भी करे, निज मात-पिता से प्यार;
वह हिंदी पर , कभी भी ना करे प्रहार;
हिंदी ही सदा , राष्ट्र में एकता लाएगी;
हमारी हर संस्कृति को, यही बचाएगी।
जो जनता न अपनाये हिंदी भाषा को;
झलकाये मन, उसकी गंदी आशा को;
यही तो अब , भाषाई अभिभावक है;
जैसे धरम-करम हेतु , कोई पावक है।
तरनी गंगा हो, या हो सरिता कालिंदी;
हर पावनी धारा में बसे सदा ही, हिंदी;
अपगा कावेरी से, लहरी सतलज तक;
हिंदी ही दिखे अब , हर पग-पग तक।
गिरि नीलगिरी से अचल हिमालय तक,
अपनी हिंदी ही बसे , हर आलय तक;
यह है , जन- जन की अपनी ही भाषा;
राष्ट्रभाषा हेतु नियम का मोहताज नहीं;
अखंड भारत का भी था , सरताज यही;
देश क्या, विदेशों की भी ये भाषा होगी;
भले देशद्रोहियों को,इससे निराशा होगी;
जो यह हिंदी ना होगी, जन-गण-मन में;
दिखेगा हिंदुस्तान कहां,किसी अंतर्मन में;
हर घर बसेगा तब,तालिबान यहां क्षण में;
इसने ही बचा रखा है, इस पूरे भारत को;
आगे भी यही, देश और संसार बचायेगा;
वो देशी नर नहीं,जो ‘जय हिंदी’ न गाएगा।

“जय हिंद”………………………”जय हिंदी”

*******************************
स्वरचित सह मौलिक:-
……..✍️ पंकज ‘कर्ण’
…………….कटिहार।।

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 3 Comments · 711 Views
You may also like:
#खुद से बातें...
Seema 'Tu hai na'
शराब सहारा
Anurag pandey
🙏मॉं कात्यायनी🙏
पंकज कुमार कर्ण
छुअन लम्हे भर की
Rashmi Sanjay
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
एक दिया अनजान साथी के नाम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सबतै बढिया खेलणा
विनोद सिल्ला
Hero of your parents 🦸
ASHISH KUMAR SINGH
एकलव्य:महाभारत का महाउपेक्षित महायोद्धा
AJAY AMITABH SUMAN
यूं रो कर ना विदा करो।
Taj Mohammad
आस्तीन के साँप
Dr Archana Gupta
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
आप हारेंगे हौसला जब भी
Dr fauzia Naseem shad
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
💐💐प्रेम की राह पर-63💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*किसकी रहती याद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✍️दबी जुबाँ✍️
'अशांत' शेखर
दौर-ए-सफर
DESH RAJ
हर सिम्त यहाँ...
अश्क चिरैयाकोटी
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
तेरी बाहों के घेरे
VINOD KUMAR CHAUHAN
मिलन
Anamika Singh
“ गलत प्रयोग से “ अग्निपथ “ नहीं बनता बल्कि...
DrLakshman Jha Parimal
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
Loading...