Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

जय श्री राम

भारत भूमि पर शुभ दिन आज
दशो दिशाओं में गूँजे जय गान
सज -धज गई सब ओर धरा
जन -जन में है हर्ष भरा

आशा के दीप सजे घर -घर
सब ओर छाईं है बहार
नभ से धरा तक दृश्य मनोरम
राम नाम की बहती रसधार

वर्षो के संघर्ष का यह परिणाम
आ गया शुभ दिन आज
जिनकी महिमा अपरम्पार
युग प्रवर्तक प्रभु श्री राम

सजी है अयोध्या नव वधू समान
मन ही मन मुसकाई इठलाती सी
सरयू की लहरें लगी कहाने
आज मन झूम उठा फिर से

गाओ सखी आज मंगल गान
नित करती रही प्रतीक्षा
मन संकल्प हुआ पूर्ण आज
प्रभु श्रीराम पधारे धाम आज।

वीरता, त्याग, दया ,समर्पण
की मूरत प्रभु श्रीराम
जन -जन में विश्वास जगा आज
मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम पधारे धाम।

Language: Hindi
113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Neha
View all
You may also like:
जीत मनु-विधान की / मुसाफ़िर बैठा
जीत मनु-विधान की / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
संत गाडगे संदेश
संत गाडगे संदेश
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
#संघ_शक्ति_कलियुगे
#संघ_शक्ति_कलियुगे
*Author प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरे दरबार आया हूँ
तेरे दरबार आया हूँ
Basant Bhagawan Roy
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
Ashish shukla
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
"कब तक हम मौन रहेंगे "
DrLakshman Jha Parimal
"तू-तू मैं-मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-270💐
💐प्रेम कौतुक-270💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज की जरूरत~
आज की जरूरत~
दिनेश एल० "जैहिंद"
आई होली
आई होली
Kavita Chouhan
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
प्रीतम श्रावस्तवी
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
Arghyadeep Chakraborty
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"Communication is everything. Always always tell people exac
पूर्वार्थ
2333.पूर्णिका
2333.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*सबसे अच्छी मॉं के हाथों, निर्मित रोटी-दाल है (हिंदी गजल)*
*सबसे अच्छी मॉं के हाथों, निर्मित रोटी-दाल है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मेरे अल्फाज़
मेरे अल्फाज़
Dr fauzia Naseem shad
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
Rj Anand Prajapati
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
Manisha Manjari
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
Anil Mishra Prahari
!! दिल के कोने में !!
!! दिल के कोने में !!
Chunnu Lal Gupta
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
Kumar lalit
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...