Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

” जय भारत-जय गणतंत्र ! “

मिट्टी इसकी पावन है,सब शीष झुकाते हैं,
मिट्टी इसकी पावन है,सब शीष झुकाते हैं,

सागर और हिमालय इसको गोद खेलाते हैं-2
सिरमौर है दुनियां का ये, गाथा इसकी महान है,

कण-कण इसका सोना जैसा, सुंदर ये पहचान है,
एक-दूजे को साथ लिए हम कदम बढ़ाते हैं-2

मिट्टी इसकी पावन है,सब शीष झुकाते हैं ।
रंग-रूप या खानपान हो,चाहे अलग हो भाषा,

खुद ईश्वर ने कर कमलों से,हम सबको है तराशा,
थाम के अपने हाथ तिरंगा, हम फहराते हैं-2

मिट्टी इसकी पावन है,सब शीष झुकाते हैं ।
कसम हमें है भारत मां की देश नहीं झुकने देंगे,

इस धरती पे हम दुश्मन के कदम नहीं टिकने देंगे,
देश की खातिर हंस-हंस के,कुरबां हो जाते हैं-2

मिट्टी इसकी पावन है,सब शीष झुकाते हैं ।
सागर और हिमालय इसको गोद खेलाते हैं।

1 Like · 1 Comment · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
Akash Yadav
नेता बनि के आवे मच्छर
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
खत पढ़कर तू अपने वतन का
खत पढ़कर तू अपने वतन का
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*पार्क (बाल कविता)*
*पार्क (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Maine anshan jari rakha
Maine anshan jari rakha
Sakshi Tripathi
2980.*पूर्णिका*
2980.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खामोशियां पढ़ने का हुनर हो
खामोशियां पढ़ने का हुनर हो
Amit Pandey
शब्द
शब्द
Neeraj Agarwal
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
हिन्दी दोहे- इतिहास
हिन्दी दोहे- इतिहास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अयाग हूँ मैं
अयाग हूँ मैं
Mamta Rani
नर को न कभी कार्य बिना
नर को न कभी कार्य बिना
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
भौतिकवादी
भौतिकवादी
लक्ष्मी सिंह
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
-- क्लेश तब और अब -
-- क्लेश तब और अब -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
ओनिका सेतिया 'अनु '
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
Shashi kala vyas
पहले साहब परेशान थे कि हिन्दू खतरे मे है
पहले साहब परेशान थे कि हिन्दू खतरे मे है
शेखर सिंह
"निर्णय आपका"
Dr. Kishan tandon kranti
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
समय
समय
Paras Nath Jha
■ #मुक्तक
■ #मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
डीजे
डीजे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
Dr MusafiR BaithA
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
Subhash Singhai
Loading...