Oct 18, 2016 · 1 min read

जयबालाजी:: पंक राशि में अनासक्त रह कमल:: जितेन्द्र कमल आनंद ( ४४)

ताटंक छंद क्रमॉक ४४

पंक- राशि में अनासक्त रह ,कमल कलुष उरका धोता
खिल जाती तब भक्ति कली – सी , रश्मि अवतरण जब होता ।
देती मधु मकरंद – स्पंद फिर, भक्ति ह्रदय कर मतवाला
कर देती अंतर आह्लादित , कर कलरव कोयल वाला।।

— जितेंद्रकमलआनंद

123 Views
You may also like:
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम हो
Alok Saxena
मृत्यु के बाद भी मिर्ज़ा ग़ालिब लोकप्रिय हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H.
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
बाबा ब्याह ना देना,,,
Taj Mohammad
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
बुलंद सोच
Dr. Alpa H.
आपातकाल
Shriyansh Gupta
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
हे गुरू।
Anamika Singh
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
Loading...