Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

जमाने में

जमाने में दिल का सार कोई नहीं बताता,
मारते हैं कितने ही खंजर पीठ पर;
कायर कभी अपना वार नहीं बताता।

होते है घायल कितने ही पर पंछी ऊंचे आकाश में,
बहेलिया कभी अपनी चाल नहीं बताता।

है खोज में सभी नफरत – ए- मंजर की,
प्यार की मिसाल कोई नहीं बताता।

नादान है वो जो सोचते है?
कि दुनिया बड़ी हसीन है।
जगमगाती दुनिया की असली बात कोई नहीं बताता।

पहुंचते हैं जब भी हम अनजान मोड़ पे जनाब;
एक बस मेरा खुदा ही है जो मुझे कहीं नहीं भटकाता।

1 Like · 96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from manjula chauhan
View all
You may also like:
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जवानी
जवानी
Bodhisatva kastooriya
मेरी आंखों में कोई
मेरी आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
VINOD CHAUHAN
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
Shyam Sundar Subramanian
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जननी
जननी
Mamta Rani
पापा
पापा
Lovi Mishra
उफ़ ये बेटियाँ
उफ़ ये बेटियाँ
SHAMA PARVEEN
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
Rj Anand Prajapati
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
दोहे- अनुराग
दोहे- अनुराग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
Dr.Rashmi Mishra
हो गए दूर क्यों, अब हमसे तुम
हो गए दूर क्यों, अब हमसे तुम
gurudeenverma198
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
प्यारी तितली
प्यारी तितली
Dr Archana Gupta
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
Vicky Purohit
नशीली आंखें
नशीली आंखें
Shekhar Chandra Mitra
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2806. *पूर्णिका*
2806. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
Keshav kishor Kumar
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
कवि रमेशराज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"पृथ्वी"
Dr. Kishan tandon kranti
छुट्टी बनी कठिन
छुट्टी बनी कठिन
Sandeep Pande
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
Dr MusafiR BaithA
Loading...