Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं

जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
अपने हक की खातिर हम कई बार लड़े हैं !

ठोकरों से गिरने का कोई खौफ नहीं हमको
हौसले मेरे आसमानों से भी बहुत बड़े हैं . !!

कवि दीपक सरल

1 Like · 267 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खरगोश
खरगोश
SHAMA PARVEEN
नसीहत
नसीहत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चुनावी मौसम
चुनावी मौसम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
बदनसीब डायरी
बदनसीब डायरी
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तो महज नीर हूँ
मैं तो महज नीर हूँ
VINOD CHAUHAN
ज्ञानवान  दुर्जन  लगे, करो  न सङ्ग निवास।
ज्ञानवान दुर्जन लगे, करो न सङ्ग निवास।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सुखी होने में,
सुखी होने में,
Sangeeta Beniwal
सौदागर हूँ
सौदागर हूँ
Satish Srijan
शहनाई की सिसकियां
शहनाई की सिसकियां
Shekhar Chandra Mitra
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
कृष्णकांत गुर्जर
चंदा का अर्थशास्त्र
चंदा का अर्थशास्त्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Remembering that winter Night
Remembering that winter Night
Bidyadhar Mantry
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बिहार के मूर्द्धन्य द्विज लेखकों के विभाजित साहित्य सरोकार
बिहार के मूर्द्धन्य द्विज लेखकों के विभाजित साहित्य सरोकार
Dr MusafiR BaithA
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
Anil chobisa
2678.*पूर्णिका*
2678.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सबका साथ
सबका साथ
Bodhisatva kastooriya
■ बच कर रहिएगा
■ बच कर रहिएगा
*प्रणय प्रभात*
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
gurudeenverma198
सफर पर है आज का दिन
सफर पर है आज का दिन
Sonit Parjapati
खाएँ पशु को मारकर ,आदिम-युग का ज्ञान(कुंडलिया)
खाएँ पशु को मारकर ,आदिम-युग का ज्ञान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
माँ
माँ
Dinesh Kumar Gangwar
लोकतंत्र बस चीख रहा है
लोकतंत्र बस चीख रहा है
अनिल कुमार निश्छल
एक खत जिंदगी के नाम
एक खत जिंदगी के नाम
पूर्वार्थ
// प्रीत में //
// प्रीत में //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...