Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

जब हर एक दिन को शुभ समझोगे

जब हर एक दिन को शुभ समझोगे
भाग्य प्रबल हो जाएगा

जब हर एक कर्म को सत्कर्म करोगे
भाग्य प्रबल हो जायेगा

जब जीवन को जीवन समझोगे
भाग्य प्रबल हो जायेगा

जब गैरों को अपना समझोगे
भाग्य प्रबल हो जायेगा

जब चंचल मन स्थिर होगा तब
भाग्य प्रबल हो जायेगा

जब चिंतन का सागर होगा रोशन तब
भाग्य प्रबल हो जायेगा

जब आध्यात्म की गंगा बह निकलेगी तब
भाग्य प्रबल हो जाएगा

जब प्रभु चिंतन का समंदर होगा रोशन तब
भाग्य प्रबल हो जायेगा

जब सबकी पीड़ा , तेरी पीड़ा होगी तब
भाग्य प्रबल हो जायेगा

जब सुख – दुःख में तू सम होगा तब
भाग्य प्रबल हो जायेगा

जब हर एक दिन को शुभ समझोगे
भाग्य प्रबल हो जाएगा

जब हर एक कर्म को सत्कर्म करोगे
भाग्य प्रबल हो जायेगा ||

अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम “

Language: Hindi
33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
सत्य साधना
सत्य साधना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मतदान से, हर संकट जायेगा;
मतदान से, हर संकट जायेगा;
पंकज कुमार कर्ण
कोरोंना
कोरोंना
Bodhisatva kastooriya
*हमारे विवाह की रूबी जयंती*
*हमारे विवाह की रूबी जयंती*
Ravi Prakash
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
गुमनाम 'बाबा'
That poem
That poem
Bidyadhar Mantry
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
Sukoon
अपना दिल
अपना दिल
Dr fauzia Naseem shad
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
Vandna thakur
गीतांश....
गीतांश....
Yogini kajol Pathak
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
gurudeenverma198
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
"परवाज"
Dr. Kishan tandon kranti
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"संवाद "
DrLakshman Jha Parimal
#अभिनंदन-
#अभिनंदन-
*प्रणय प्रभात*
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्यार है नही
प्यार है नही
SHAMA PARVEEN
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
3073.*पूर्णिका*
3073.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
ruby kumari
बेशर्मी
बेशर्मी
Sanjay ' शून्य'
जिंदगी
जिंदगी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मोहब्बत तो अब भी
मोहब्बत तो अब भी
Surinder blackpen
Loading...