Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2023 · 1 min read

परिपक्वता

जब हम स्वयं को समझने लगते हैं,
तब हम वास्तव में परिपक्व हो जाते हैं ।❤️
-लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा

2 Likes · 138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सबकी विपदा हरे हनुमान
सबकी विपदा हरे हनुमान
sudhir kumar
*सीमा की जो कर रहे, रक्षा उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*सीमा की जो कर रहे, रक्षा उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
कवि दीपक बवेजा
"अभिमान और सम्मान"
Dr. Kishan tandon kranti
आज इस सूने हृदय में....
आज इस सूने हृदय में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
Sonit Parjapati
The Day I Wore My Mother's Saree!
The Day I Wore My Mother's Saree!
R. H. SRIDEVI
अंतरंग प्रेम
अंतरंग प्रेम
Paras Nath Jha
पाँच सितारा, डूबा तारा
पाँच सितारा, डूबा तारा
Manju Singh
।। श्री सत्यनारायण ब़त कथा महात्तम।।
।। श्री सत्यनारायण ब़त कथा महात्तम।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
Abhishek Soni
आप, मैं और एक कप चाय।
आप, मैं और एक कप चाय।
Urmil Suman(श्री)
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
दबे पाँव
दबे पाँव
Davina Amar Thakral
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
shabina. Naaz
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
नारी के सोलह श्रृंगार
नारी के सोलह श्रृंगार
Dr. Vaishali Verma
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मै भी सुना सकता हूँ
मै भी सुना सकता हूँ
Anil chobisa
मेरे जैसा
मेरे जैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
Rajesh
उलझनें
उलझनें
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
Beginning of the end
Beginning of the end
Bidyadhar Mantry
गम और खुशी।
गम और खुशी।
Taj Mohammad
जैसे आँखों को
जैसे आँखों को
Shweta Soni
क्रिकेट
क्रिकेट
SHAMA PARVEEN
■ केवल लूट की मंशा।
■ केवल लूट की मंशा।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...