Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2023 · 1 min read

जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।

जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा,
ये नियति हंस कर देख रही, कि कल काल तुझे समझायेगा।
निंदनीय शब्दों की तीखी तलवार, तू आज औरों पर चलाएगा,
तेरे शब्दों से गूंजेगा ब्रह्मांड आज, और कल घर को तेरे हीं गुंजाएगा।
मिथ्या अहम् और स्वार्थ को जो तू, सर पर खुद के सजायेगा,
इक दिन स्वयं घमंड तेरा, तेरे शीश को काट गिरायेगा।
आँखों में तेरी स्वयं लज्जा नहीं और, सवाल चरित्रों पर उठाएगा,
घर में तेरे भी दो फूल खिले, कोई उस पर भी घात लगाएगा।
गीली मिट्टी की मूरत के हृदय को, तू आज विचारशून्य हो तरपायेगा,
कल तेरे अश्रु भी तेरी आँखों से नजरें चुरायेगा।
विचलित मन की पीड़ा का तू, मनोरंजन आज बनाएगा,
कल स्वांग बनेगा तेरा भी और ठगा सा तू रह जाएगा।
कर्म का लेखा ऐसा है, जो देगा वापस आएगा,
वो ईश्वर रिश्वतखोर नहीं, जो तेरे कर्मों पर पर्दा गिरायेगा।

2 Comments · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
*जीवन समझो खेल-तमाशा, क्षणभर की चिंगारी है (मुक्तक)*
*जीवन समझो खेल-तमाशा, क्षणभर की चिंगारी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
Neeraj Agarwal
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
कवि रमेशराज
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐अज्ञात के प्रति-23💐
💐अज्ञात के प्रति-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपने और पराए
अपने और पराए
Sushil chauhan
सत्य
सत्य
Dr.Pratibha Prakash
"संकल्प"
Dr. Kishan tandon kranti
*** लहरों के संग....! ***
*** लहरों के संग....! ***
VEDANTA PATEL
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आज की प्रस्तुति - भाग #2
आज की प्रस्तुति - भाग #2
Rajeev Dutta
*दिल में  बसाई तस्वीर है*
*दिल में बसाई तस्वीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
Rj Anand Prajapati
#एक_सराहनीय_पहल
#एक_सराहनीय_पहल
*Author प्रणय प्रभात*
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
AMRESH KUMAR VERMA
माया
माया
Sanjay ' शून्य'
सभी कहें उत्तरांचली,  महावीर है नाम
सभी कहें उत्तरांचली, महावीर है नाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वातावरण चितचोर
वातावरण चितचोर
surenderpal vaidya
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
फ़ितरत
फ़ितरत
Priti chaudhary
प्रभु की लीला प्रभु जाने, या जाने करतार l
प्रभु की लीला प्रभु जाने, या जाने करतार l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
gurudeenverma198
एक अलग ही खुशी थी
एक अलग ही खुशी थी
Ankita Patel
और कितना मुझे ज़िंदगी
और कितना मुझे ज़िंदगी
Shweta Soni
रूपेश को मिला
रूपेश को मिला "बेस्ट राईटर ऑफ द वीक सम्मान- 2023"
रुपेश कुमार
भाई
भाई
Kanchan verma
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
Ranjeet kumar patre
Loading...