Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2017 · 1 min read

जब से देखा तुमको

जब से देखा तुमको मेरा दिल मचल सा गया है
तेरे चेहरे का नूर मेरी आंखों में उतर सा गया है
तेरे चेहरे की मासूमी मेरे दिल को सताती हैं
ना जाने क्यों बस तेरी याद आती है
तेरा हंसता हुआ चेहरा
चांद की तरह सुनहरा
तेरी हिरनी जैसी चाल
सिर से लेकर पैर तक तू मुझे लगती है बेमिसाल
तेरी नाजुक सी अदाएं जैसे कि सावन की घटाएं
तेरे काले काले बाल सब कुछ मुझे लगते हैं बेमिसाल ै

404 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
The_dk_poetry
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ममत्व की माँ
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
इतिहास
इतिहास
Dr.Priya Soni Khare
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
हर दिन के सूर्योदय में
हर दिन के सूर्योदय में
Sangeeta Beniwal
तस्वीर तुम्हारी देखी तो
तस्वीर तुम्हारी देखी तो
VINOD CHAUHAN
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Sakshi Tripathi
" पीती गरल रही है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
संजय कुमार संजू
आजादी विचारों से होनी चाहिये
आजादी विचारों से होनी चाहिये
Radhakishan R. Mundhra
जिस कदर उम्र का आना जाना है
जिस कदर उम्र का आना जाना है
Harminder Kaur
प्रेम की अनुपम धारा में कोई कृष्ण बना कोई राधा
प्रेम की अनुपम धारा में कोई कृष्ण बना कोई राधा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
पुरुष का दर्द
पुरुष का दर्द
पूर्वार्थ
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
Babli Jha
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
NUMB
NUMB
Vedha Singh
"रेल चलय छुक-छुक"
Dr. Kishan tandon kranti
यादें
यादें
Dr fauzia Naseem shad
ছায়া যুদ্ধ
ছায়া যুদ্ধ
Otteri Selvakumar
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
नयनजल
नयनजल
surenderpal vaidya
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
एक खाली बर्तन,
एक खाली बर्तन,
नेताम आर सी
■ ट्रिक
■ ट्रिक
*Author प्रणय प्रभात*
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
Paras Nath Jha
Loading...