Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Dec 2019 · 1 min read

जब से जहां से खो गई चिट्ठियां

जब से जहान से खो गई हैं चिट्ठियां
तभी से प्रीत जहान से पराई हो गई

खूब लिखते थे,प्यार भरे प्यारे खत
पाते थे खूब प्रेमसंदेश भरे हुए खत
खत- विदाई संग प्रीत पराई हो गई
तभी से प्रीत जहान से पराई हो गई

सुखदुख का संदेश देती थी चिट्ठियां
खुशखबरी खूब सुनाती थी चिट्ठियां
चिट्ठियों संग भावनाएं सदाई हो गई
तभी से प्रीत जहान से पराई हो गई

डाकिए की घंटी संग ,धड़के था दिल
डर लगता था कहीं टूट ना जाए दिल
साईकिल घंटी की बंद सुनाई हो गई
तभी से प्रीत जहान से पराई हो गई

खतो में लिखा लगता था सच्चा प्रेम
मोतियों से अक्षरों में झलके था प्रेम
नीले रंग बिना जग में तन्हाई हो गई
तभी से प्रीत जहान से पराई हो गई

कहीं फटा होता गर चिट्ठी का कोना
अंदेशा होता अपना हो गया बेगाना
खतों में छिपे भावों बेवफाई हो गई
तभी से प्रीत जहान से पराई हो गई

खतों में होता था प्रेम- प्यार का जोर
मोबाइलों में तो है प्रेम-प्यार का शोर
खतों संग प्रीत रीत गुमशुदगी हो गई
तभी से प्रीत जहान से पराई हो गई

जब से जहान में खो गई हैं चिट्ठियां
तभी से प्रीत जहान से पराई हो गई

सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)
9896872258

Language: Hindi
2 Likes · 368 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
जीना सीख लिया
जीना सीख लिया
Anju ( Ojhal )
मैं प्रेम लिखूं जब कागज़ पर।
मैं प्रेम लिखूं जब कागज़ पर।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
ଷଡ ରିପୁ
ଷଡ ରିପୁ
Bidyadhar Mantry
दोहे- दास
दोहे- दास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
Anand Kumar
चाँद सी चंचल चेहरा🙏
चाँद सी चंचल चेहरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बारिश के गुण गाओ जी (बाल कविता)
बारिश के गुण गाओ जी (बाल कविता)
Ravi Prakash
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
Ram Krishan Rastogi
3176.*पूर्णिका*
3176.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" वाई फाई में बसी सबकी जान "
Dr Meenu Poonia
"छछून्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
विरह वेदना फूल तितली
विरह वेदना फूल तितली
SATPAL CHAUHAN
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
आंगन महक उठा
आंगन महक उठा
Harminder Kaur
गीता में लिखा है...
गीता में लिखा है...
Omparkash Choudhary
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बीता हुआ कल वापस नहीं आता
बीता हुआ कल वापस नहीं आता
Anamika Tiwari 'annpurna '
लेखक कौन ?
लेखक कौन ?
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
एतबार
एतबार
Davina Amar Thakral
गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई
गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुमकिन हो जाएगा
मुमकिन हो जाएगा
Amrita Shukla
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
Shivkumar barman
मै खामोश हूँ ,कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
मै खामोश हूँ ,कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
Neelofar Khan
दीदार
दीदार
Dipak Kumar "Girja"
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
Kanchan Khanna
Loading...