Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2022 · 1 min read

जब सावन का मौसम आता

जब सावन का मौसम आता, छा जाती हरियाली।
बूँद-बूँद में भरा हुआ है,जीवन मोदक प्याली।

पात पात सब निखर रहे हैं, झूम रही हर डाली।
हरी-भरी है छटा सुहानी, मन को हरने वाली।
गुनगुन गाती है पुरवाई,पहन कान में बाली।
भींनी-भीनी खुश्बू लेकर,बहती हवा निराली।

सूर्य छुपा है घनी घटा में, निखरे उसकी लाली।
इन्द्र धनुष के रंग सुहाने, भरे गगन के थाली।
मेंढ़क टर्-टर् शोर मचाते ,गाती कोयल काली।
मन को हर्षित करने वाली,दुख को हरने वाली।

नाचे मोर पपीहा गाये, विहस रहा है माली।
छप-छप बच्चे खेल रहे हैं, बजा-बजा कर ताली।
आओ मिल कर पेड़ लगाएँ जहाँ जगह हो खाली।
भावी पीढ़ी रहे सुरक्षित, जीवन में खुशहाली।

जब सावन का मौसम आता, छा जाती हरियाली।
बूँद-बूँद में भरा हुआ है,जीवन मोदक प्याली ।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

2 Likes · 1 Comment · 296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
नीर क्षीर विभेद का विवेक
नीर क्षीर विभेद का विवेक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मां की महत्ता
मां की महत्ता
Mangilal 713
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
Rituraj shivem verma
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
Rambali Mishra
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
शरद काल
शरद काल
Ratan Kirtaniya
प्रेम में डूब जाने वाले,
प्रेम में डूब जाने वाले,
Buddha Prakash
नौकरी (१)
नौकरी (१)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
विचार और रस [ एक ]
विचार और रस [ एक ]
कवि रमेशराज
60 के सोने में 200 के टलहे की मिलावट का गड़बड़झाला / MUSAFIR BAITHA
60 के सोने में 200 के टलहे की मिलावट का गड़बड़झाला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चश्म–ए–बद दूर
चश्म–ए–बद दूर
Awadhesh Singh
हम तुम्हारे हुए
हम तुम्हारे हुए
नेताम आर सी
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो ,  प्यार की बौछार से उज
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो , प्यार की बौछार से उज
DrLakshman Jha Parimal
बुंदेली दोहे- रमतूला
बुंदेली दोहे- रमतूला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
पूर्वार्थ
3066.*पूर्णिका*
3066.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौसम
मौसम
surenderpal vaidya
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रिश्ता
रिश्ता
अखिलेश 'अखिल'
मेरा भारत जिंदाबाद
मेरा भारत जिंदाबाद
Satish Srijan
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
Meenakshi Masoom
कमबख़्त इश़्क
कमबख़्त इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
#गणितीय प्रेम
#गणितीय प्रेम
हरवंश हृदय
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
"आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
पूर्णिमा का चाँद
पूर्णिमा का चाँद
Neeraj Agarwal
Loading...