Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Dec 2022 · 1 min read

जब शून्य में आकाश को देखता हूँ

जब शून्य में आकाश को देखता हूँ,
आकाश में चमकते तारों को देखता हूँ,
मैंने कभी यह नहीं सोचा था कि,
एक दिन मैं चमकूँगा आकाश में,
बनकर एक ध्रुव तारा इस प्रकार,
यह मेरी तपस्या थी।

मैं भी सोचता हूँ कि,
तुम भी हो आकाश में,
सितारों के बीच एक सितारा बनकर,
और मैं समझ लूंगा कि,
मेरा ख्वाब सच हो गया,
मेरा प्यार अमर हो गया।

तू चाहे मुझको मिले या नहीं मिले,
मगर तू मेरे सफर की मंजिल है,
तू मेरी मंजिल की खुशी है,
तू मेरी खुशी का ख्वाब है,
तू मेरी परवाज की रफत है,
तू मेरे साहिल का चिराग है।

गर कभी आ जाऊं तेरे करीब,
तू दिखाना मुझको रास्ता,
मेरी जिंदगी की रोशनी बनकर,
मेरी रोशनी का आफताब बनकर,
मेरी चांदनी का महताब बनकर,
मांगता हूँ खुदा से यही दुहा,
जब शून्य में आकाश को देखता हूँ।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अनार*
*अनार*
Ravi Prakash
प्रेरणादायक कविता
प्रेरणादायक कविता
Anamika Tiwari 'annpurna '
*बदलना और मिटना*
*बदलना और मिटना*
Sûrëkhâ
रखो अपेक्षा ये सदा,  लक्ष्य पूर्ण हो जाय
रखो अपेक्षा ये सदा, लक्ष्य पूर्ण हो जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
Dr MusafiR BaithA
अर्ज किया है
अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
"प्यासा"के गजल
Vijay kumar Pandey
इतना तो आना चाहिए
इतना तो आना चाहिए
Anil Mishra Prahari
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
■ हाइकू पर हाइकू।।
■ हाइकू पर हाइकू।।
*Author प्रणय प्रभात*
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
गीत.......✍️
गीत.......✍️
SZUBAIR KHAN KHAN
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
इंसान
इंसान
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
* निशाने आपके *
* निशाने आपके *
surenderpal vaidya
"प्रपोज डे"
Dr. Kishan tandon kranti
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
शीर्षक:जय जय महाकाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
Dr Manju Saini
ख़्वाब सजाना नहीं है।
ख़्वाब सजाना नहीं है।
अनिल "आदर्श"
बड़े हुए सब चल दिये,
बड़े हुए सब चल दिये,
sushil sarna
दूजी खातून का
दूजी खातून का
Satish Srijan
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
Dr Tabassum Jahan
*मैं, तुम और हम*
*मैं, तुम और हम*
sudhir kumar
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
ruby kumari
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
Loading...