Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2024 · 1 min read

जब ये मेहसूस हो, दुख समझने वाला कोई है, दुख का भर स्वत कम ह

जब ये मेहसूस हो, दुख समझने वाला कोई है, दुख का भर स्वत कम होने जाता है
Be positive 💌
ईश्वर ने हर इंसान को इतना आत्मबल जरूर दिया है कि वह अपने दुखों से को सह सके,और उस से बाहर निकल सके,मगर मनुष्य जीवन ऐसा ही है कि भावनाओं से जुड़ा,या यूं कह लें बंधा हुआ,हमे एक इंसान चाहिए होता है,जो हमारी बातों को बस चुपचाप सुन कर समझे और कुछ नहीं,वास्तव में उस इंसान से हम कुछ चाहिए ही नहीं होता है.
स्त्रियां प्राय अपनी बहन,मां या सहेली को अपना दुख कहती हैं.
इसी तरह पुरुषों को भी एक मित्र चाहिए होता है चाहे वह भाई के रूप में हो या सहकर्मी के रूप में,यह सहानुभूति जो होती है ना बहुत अलग सी चीज है,जब हम बिना बोले भी किसी की बातों को चुपचाप सुनते हैं,और सामने वाले को के ही महसूस करा देते है कि हां वह मेरी बात समझ रहा है बस इंसान होने का पर्याय हम वहीं पर पूरा कर देते हैं ।।
और मनुष्य होने के नाते,इतना तो अवश्य करना ही चाहिए ,इसके लिए कोई पैसे खर्च नहीं होते,कुछ भी नहीं लगता,बस जरा सा वक्त
तो आज की मशीनी दौड़ में,, जहां इंसान को इंसान के लिए वक्त नहीं है.अगर कोई आपके पास बैठ के अपनी बात कह रहा है ,प्लीज उसकी बातों को सुनिए समझिए,और बस इतना की हां मैं तुम्हारी बात सुन रहा हूं,समझ रहा हूं और यथा स्थिति मैं तुम्हारे साथ हूं

48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
चलते चलते
चलते चलते
ruby kumari
वो चिट्ठियां
वो चिट्ठियां
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
कवि रमेशराज
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
#लघु कविता
#लघु कविता
*प्रणय प्रभात*
पहली नजर का जादू दिल पे आज भी है
पहली नजर का जादू दिल पे आज भी है
VINOD CHAUHAN
"जलाओ दीप घंटा भी बजाओ याद पर रखना
आर.एस. 'प्रीतम'
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
Dr Tabassum Jahan
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
surenderpal vaidya
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
भरत नाम अधिकृत भारत !
भरत नाम अधिकृत भारत !
Neelam Sharma
इस कदर आज के ज़माने में बढ़ गई है ये महगाई।
इस कदर आज के ज़माने में बढ़ गई है ये महगाई।
शेखर सिंह
माँ
माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
Divya Mishra
हारता वो है
हारता वो है
नेताम आर सी
विश्व हिन्दी दिवस पर कुछ दोहे :.....
विश्व हिन्दी दिवस पर कुछ दोहे :.....
sushil sarna
कुछ याद बन गये
कुछ याद बन गये
Dr fauzia Naseem shad
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"तलबगार"
Dr. Kishan tandon kranti
मातृ दिवस पर कुछ पंक्तियां
मातृ दिवस पर कुछ पंक्तियां
Ram Krishan Rastogi
सुख - डगर
सुख - डगर
Sandeep Pande
न शायर हूँ, न ही गायक,
न शायर हूँ, न ही गायक,
Satish Srijan
*Each moment again I save*
*Each moment again I save*
Poonam Matia
*पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं (गीत)*
*पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं (गीत)*
Ravi Prakash
रोशनी से तेरी वहां चांद  रूठा बैठा है
रोशनी से तेरी वहां चांद रूठा बैठा है
Virendra kumar
मुझसे जुदा होने से पहले, लौटा दे मेरा प्यार वह मुझको
मुझसे जुदा होने से पहले, लौटा दे मेरा प्यार वह मुझको
gurudeenverma198
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
Keshav kishor Kumar
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
मरीचिका
मरीचिका
लक्ष्मी सिंह
Loading...