Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2023 · 1 min read

जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,

जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
मुझे पता था यही कहोगे,
साँसे तन से भारी होंगी,
रोक रखोगे, बोझ सहोगे।
शब्दों से परहेज़ तुम्हें है,
शब्दों के संग नहीं रहोगे,
तुम तो जादूगर हो कोई,
आँखों से मन की बात कहोगे।
शब्द किये हैं कैद तुम्ही ने,
अक्षर डिबिया में रक्खे हैं,
बेचारों को दो आज़ादी,
कब तक इनको कैद रखोगे।
होंठ सिये मत बैठे रहना,
कब तक विष का पान करोगे,
इंतज़ार है अब उस पल का,
अपने अधरों को गति तुम दोगे।

(c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

4 Likes · 298 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
2760. *पूर्णिका*
2760. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वोट का सौदा
वोट का सौदा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"डोली बेटी की"
Ekta chitrangini
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जो चाहो यदि वह मिले,
जो चाहो यदि वह मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बुंदेली दोहा-बखेड़ा
बुंदेली दोहा-बखेड़ा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वो तो हंसने हंसाने की सारी हदें पार कर जाता है,
वो तो हंसने हंसाने की सारी हदें पार कर जाता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"नींद की तलाश"
Pushpraj Anant
मुझे बिखरने मत देना
मुझे बिखरने मत देना
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हमेशा एक स्त्री उम्र से नहीं
हमेशा एक स्त्री उम्र से नहीं
शेखर सिंह
गर्म चाय
गर्म चाय
Kanchan Khanna
महादेव
महादेव
C.K. Soni
मेरी बिटिया
मेरी बिटिया
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सफलता
सफलता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
संतोष बरमैया जय
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ताज़ा शोध■
■ताज़ा शोध■
*प्रणय प्रभात*
तुम मेरा साथ दो
तुम मेरा साथ दो
Surya Barman
ज़िंदगी देती है
ज़िंदगी देती है
Dr fauzia Naseem shad
दिल का गुस्सा
दिल का गुस्सा
Madhu Shah
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
Ranjeet kumar patre
बच्चें और गर्मी के मज़े
बच्चें और गर्मी के मज़े
कुमार
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
आर.एस. 'प्रीतम'
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
*हनुमान के राम*
*हनुमान के राम*
Kavita Chouhan
नारी
नारी
Dr Archana Gupta
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...