Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2022 · 1 min read

जब भी तेरा ख़्याल आता है

नमी आंखों में साथ लाता है ।
जब भी तेरा ख़्याल आता है ।।

कुछ भी रहता नहीं है यादों में ।
वक़्त लम्हों में बीत जाता है ।।

रास्तों पर सभी तो चलते हैं ।
कौन मंज़िल को अपनी पाता है।।

देख कर ही सुकून मिलता है ।
तेरा चेहरा नज़र को भाता है ।।

नमी आंखों में साथ लाता है ।
जब भी तेरा ख़्याल आता है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
15 Likes · 505 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
कुछ बातों का ना होना अच्छा,
कुछ बातों का ना होना अच्छा,
Ragini Kumari
नज़र का फ्लू
नज़र का फ्लू
आकाश महेशपुरी
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
*
*"पापा की लाडली"*
Shashi kala vyas
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
Taj Mohammad
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
दीप शिखा सी जले जिंदगी
दीप शिखा सी जले जिंदगी
Suryakant Dwivedi
"निर्णय"
Dr. Kishan tandon kranti
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
" कू कू "
Dr Meenu Poonia
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
manjula chauhan
इश्क में तेरे
इश्क में तेरे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*दादी बाबा पोता पोती, मिलकर घर कहलाता है (हिंदी गजल)*
*दादी बाबा पोता पोती, मिलकर घर कहलाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
शांत मन को
शांत मन को
Dr fauzia Naseem shad
होली
होली
Madhu Shah
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्यासा के कुंडलियां (pyasa ke kundalian) pyasa
प्यासा के कुंडलियां (pyasa ke kundalian) pyasa
Vijay kumar Pandey
Dear me
Dear me
पूर्वार्थ
अयोध्या
अयोध्या
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
नहीं कोई धरम उनका
नहीं कोई धरम उनका
अटल मुरादाबादी(ओज व व्यंग्य )
विषय:- विजयी इतिहास हमारा। विधा:- गीत(छंद मुक्त)
विषय:- विजयी इतिहास हमारा। विधा:- गीत(छंद मुक्त)
Neelam Sharma
3134.*पूर्णिका*
3134.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्त्री जब
स्त्री जब
Rachana
ग़ज़ल _ आराधना करूं मैं या मैं करूं इबादत।
ग़ज़ल _ आराधना करूं मैं या मैं करूं इबादत।
Neelofar Khan
मैं स्वयं हूं..👇
मैं स्वयं हूं..👇
Shubham Pandey (S P)
👍👍👍
👍👍👍
*प्रणय प्रभात*
Loading...