Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 1 min read

जब ‘बुद्ध’ कोई नहीं बनता।

जग अँधियारा होता है,
जब ज्ञान दीप नही होता,
मन अँधियारा होता है,
जब ‘बुद्ध’ कोई नहीं बनता।

तृष्णा के चक्र में उलझे ,
दुःख को वह स्वयम् पकड़े,
रहता है दुःख के संग सदा,
जब ‘बुद्ध’ कोई नहीं बनता।

कर्म कांड का जाल बिछाकर,
अंध विश्वास में डूबे इंसान,
भ्रम में सदा लिप्त रहता,
जब ‘बुद्ध’ कोई नहीं बनता।

मोह लोभ क्रोध में जो फसता,
तर्क संगत से जीवन नहीं जीता,
समस्याओ का बोझ ढ़ोता है सदा,
जब ‘बुद्ध’ कोई नहीं बनता।

बुद्ध बनो ज्ञान प्रकाश जगे,
दुःख है दुःख का कारण व निवारण,
दुःख से मुक्ती का मार्ग मिला,
‘बुद्ध’ बना दुःख से निकला।

रचनाकार ✍🏼
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

7 Likes · 6 Comments · 522 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
बहुत संभाल कर रखी चीजें
बहुत संभाल कर रखी चीजें
Dheerja Sharma
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
*
*"ममता"* पार्ट-4
Radhakishan R. Mundhra
ସଦାଚାର
ସଦାଚାର
Bidyadhar Mantry
पर्यावरण
पर्यावरण
Dr Parveen Thakur
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
तब गाँव हमे अपनाता है
तब गाँव हमे अपनाता है
संजय कुमार संजू
सबकी जात कुजात
सबकी जात कुजात
मानक लाल मनु
रमेशराज का हाइकु-शतक
रमेशराज का हाइकु-शतक
कवि रमेशराज
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
सच्चा धर्म
सच्चा धर्म
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
Phool gufran
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
आनन्द मिश्र
दोहा बिषय- महान
दोहा बिषय- महान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
rajeev ranjan
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
Paras Nath Jha
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
नूरफातिमा खातून नूरी
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
मन में उतर कर मन से उतर गए
मन में उतर कर मन से उतर गए
ruby kumari
*हिंदी*
*हिंदी*
Dr. Priya Gupta
विरही
विरही
लक्ष्मी सिंह
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त  - शंका
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त - शंका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
"एक कदम"
Dr. Kishan tandon kranti
रंगोली
रंगोली
Neelam Sharma
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
खुद को तलाशना और तराशना
खुद को तलाशना और तराशना
Manoj Mahato
Loading...