Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

जब बहुत कुछ होता है कहने को

जब बहुत कुछ होता है कहने को
तब ही अक्सर कोई नही होता सुन ने को ..

197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
न कल के लिए कोई अफसोस है
न कल के लिए कोई अफसोस है
ruby kumari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कवियों का अपना गम...
कवियों का अपना गम...
goutam shaw
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
*मैं और मेरी तन्हाई*
*मैं और मेरी तन्हाई*
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
आज की जरूरत~
आज की जरूरत~
दिनेश एल० "जैहिंद"
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
हाय.
हाय.
Vishal babu (vishu)
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
gurudeenverma198
రామయ్య రామయ్య
రామయ్య రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
एक सन्त: श्रीगुरु तेग बहादुर
एक सन्त: श्रीगुरु तेग बहादुर
Satish Srijan
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
Vivek Pandey
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
उस दर्द की बारिश मे मै कतरा कतरा बह गया
'अशांत' शेखर
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*हिंदी भाषा में नुक्तों के प्रयोग का प्रश्न*
*हिंदी भाषा में नुक्तों के प्रयोग का प्रश्न*
Ravi Prakash
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
कवि दीपक बवेजा
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"द्रौपदी का चीरहरण"
Ekta chitrangini
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
Kanchan Alok Malu
"कथरी"
Dr. Kishan tandon kranti
अब तो आ जाओ कान्हा
अब तो आ जाओ कान्हा
Paras Nath Jha
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Shekhar Chandra Mitra
मन हमेशा इसी बात से परेशान रहा,
मन हमेशा इसी बात से परेशान रहा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
🌷साथ देते है कौन यहाँ 🌷
🌷साथ देते है कौन यहाँ 🌷
Dr.Khedu Bharti
बच्चे
बच्चे
Shivkumar Bilagrami
राम आधार हैं
राम आधार हैं
Mamta Rani
अनसोई कविता............
अनसोई कविता............
sushil sarna
जब भी अपनी दांत दिखाते
जब भी अपनी दांत दिखाते
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...