Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।

जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
बना पुष्प जब भी मैं, तोड़ा गया।।
जब से कांटा बना हूँ, सुकूँ है मुझे।
क्योंकि राहों में थोड़ा सा मोड़ आ गया।।

1 Like · 135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भगतसिंह की जवानी
भगतसिंह की जवानी
Shekhar Chandra Mitra
*सौ वर्षों तक जीना अपना, अच्छा तब कहलाएगा (हिंदी गजल)*
*सौ वर्षों तक जीना अपना, अच्छा तब कहलाएगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"वो लॉक डाउन"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
कितने एहसास हैं
कितने एहसास हैं
Dr fauzia Naseem shad
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
दुष्यन्त 'बाबा'
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
Ashish shukla
माँ
माँ
Harminder Kaur
राष्ट्रीय गणित दिवस
राष्ट्रीय गणित दिवस
Tushar Jagawat
अरमान
अरमान
Kanchan Khanna
खानदानी चाहत में राहत🌷
खानदानी चाहत में राहत🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
डी. के. निवातिया
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
ईज्जत
ईज्जत
Rituraj shivem verma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
स्वस्थ्य मस्तिष्क में अच्छे विचारों की पूॅजी संकलित रहती है
स्वस्थ्य मस्तिष्क में अच्छे विचारों की पूॅजी संकलित रहती है
Tarun Singh Pawar
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
पहला कदम
पहला कदम
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
Ranjeet kumar patre
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
2806. *पूर्णिका*
2806. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आलता-महावर
आलता-महावर
Pakhi Jain
आज बगिया में था सम्मेलन
आज बगिया में था सम्मेलन
VINOD CHAUHAN
ख़ुदा बताया करती थी
ख़ुदा बताया करती थी
Madhuyanka Raj
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
Lokesh Singh
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
Er. Sanjay Shrivastava
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
अन्न का मान
अन्न का मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पुण्य धरा भारत माता
पुण्य धरा भारत माता
surenderpal vaidya
Loading...