Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Aug 2016 · 1 min read

जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया

जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया

जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया
रह रह के दिल में ये सवाल आया
क्या सचमुच में तू अमानत है मेरी
या फिर यार ने हमे यूहीं बहलाया
———————जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया !!

करता हुँ इल्तिजा वक़्त बे वक़्त
जाने क्यों तुझपे ये मेरा दिल आया
रोज़ भेजता हूँ संदेशे तेरे नाम के
लौट के अभी तक न तेरा जबाब आया
———————जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया !!

सताती है याद बहुत मुझे मेरे यार की
हवाओ ने भी अब तो ये शोर मचाया
हुए चर्चे सरेआम ये अब तो फिर भी
क्यों न अभी तक उनको एतबार आया
———————जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया !!

करने लगी है मजाक मुझ से अब तो
ये बारिश की बुँदे,ये मिटटी की खुशबु
कैसे बताऊ है मुहब्बत तुझ से कितनी
देता कोई सदा दूर से,लगे यार ने बुलाया
————————————जब जब भी हमे तेरा ख्याल आया !!

डी.के. निवातियाँ ____________@@@

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 574 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
ऐसे ना मुझे  छोड़ना
ऐसे ना मुझे छोड़ना
Umender kumar
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
दिल का दर्द💔🥺
दिल का दर्द💔🥺
$úDhÁ MãÚ₹Yá
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
*
*"ममता"* पार्ट-5
Radhakishan R. Mundhra
लिखने के आयाम बहुत हैं
लिखने के आयाम बहुत हैं
Shweta Soni
बंदे को पता होता कि जेल से जारी आदेश मीडियाई सुर्खी व प्रेस
बंदे को पता होता कि जेल से जारी आदेश मीडियाई सुर्खी व प्रेस
*Author प्रणय प्रभात*
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
मईया का ध्यान लगा
मईया का ध्यान लगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
Dr Tabassum Jahan
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
Ashish Morya
तुम्ही हो किरण मेरी सुबह की
तुम्ही हो किरण मेरी सुबह की
gurudeenverma198
2592.पूर्णिका
2592.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सबसे बड़ा गम है गरीब का
सबसे बड़ा गम है गरीब का
Dr fauzia Naseem shad
ସଦାଚାର
ସଦାଚାର
Bidyadhar Mantry
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
आसमाँ  इतना भी दूर नहीं -
आसमाँ इतना भी दूर नहीं -
Atul "Krishn"
सपनो में देखूं तुम्हें तो
सपनो में देखूं तुम्हें तो
Aditya Prakash
लकवा
लकवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विजयादशमी
विजयादशमी
Mukesh Kumar Sonkar
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
कवि रमेशराज
झील बनो
झील बनो
Dr. Kishan tandon kranti
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
बासी रोटी...... एक सच
बासी रोटी...... एक सच
Neeraj Agarwal
"Always and Forever."
Manisha Manjari
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
Loading...