Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2022 · 1 min read

*जब किसी को भी नहीं बहुमत नजर में आ रहा (हिंदी गजल /गीतिका)*

जब किसी को भी नहीं बहुमत नजर में आ रहा (हिंदी गजल /गीतिका)
————————————————
(1)
जब किसी को भी नहीं, बहुमत नजर में आ रहा
हर विधायक का ही दिल, बल्ली उछलता जा रहा
(2)
जब सुना सरकार बनना, एक टेढ़ी खीर है
उच्च-भाव विधायकों का सूचकांक बता रहा
(3)
सरकार अब कैसे बने, हर विधायक रुष्ट है
अब खुराफाती सभी, पिकनिक दिमाग मना रहा
(4)
गिर जाएगी सरकार यह, बात वरना मान लो
मिल रहा जो भी विधायक, धौंस यह दिखला रहा
(5)
कह रहा कुछ, कर रहा कुछ, सोचता कुछ और है
देखकर नेता को गिरगिट आज है शरमा रहा
————————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99 9761 5451

110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
नारी
नारी
Dr Archana Gupta
3045.*पूर्णिका*
3045.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“पल भर के दीदार का कोई अर्थ नहीं।
“पल भर के दीदार का कोई अर्थ नहीं।
*Author प्रणय प्रभात*
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
होलिका दहन
होलिका दहन
Buddha Prakash
मतदान
मतदान
Anil chobisa
कानून हो दो से अधिक, बच्चों का होना बंद हो ( मुक्तक )
कानून हो दो से अधिक, बच्चों का होना बंद हो ( मुक्तक )
Ravi Prakash
"प्रकृति की ओर लौटो"
Dr. Kishan tandon kranti
चिकने घड़े
चिकने घड़े
ओनिका सेतिया 'अनु '
"Teri kaamyaabi par tareef, tere koshish par taana hoga,
कवि दीपक बवेजा
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
Phool gufran
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मौके पर धोखे मिल जाते ।
मौके पर धोखे मिल जाते ।
Rajesh vyas
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
कुत्तों की बारात (हास्य व्यंग)
कुत्तों की बारात (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
ये गीत और ग़ज़ल ही मेरे बाद रहेंगे,
ये गीत और ग़ज़ल ही मेरे बाद रहेंगे,
सत्य कुमार प्रेमी
💐प्रेम कौतुक-159💐
💐प्रेम कौतुक-159💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्री शूलपाणि
श्री शूलपाणि
Vivek saswat Shukla
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
फूल सूखी डाल पर  खिलते  नहीं  कचनार  के
फूल सूखी डाल पर खिलते नहीं कचनार के
Anil Mishra Prahari
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
Bhupendra Rawat
खेल सारा सोच का है, हार हो या जीत हो।
खेल सारा सोच का है, हार हो या जीत हो।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
कमीजें
कमीजें
Madhavi Srivastava
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
Amit Pandey
तेरी याद
तेरी याद
Shyam Sundar Subramanian
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...