Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Aug 2023 · 1 min read

सफल व्यक्ति

जब अधिक बोलना छोड़कर आप अधिक सुनना प्रारंभ कर देंगे,तब सफल व्यक्ति की पंक्ति में शामिल होने से आपको कोई नहीं रोक सकता है।

Paras Nath Jha

386 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
काँटों ने हौले से चुभती बात कही
काँटों ने हौले से चुभती बात कही
Atul "Krishn"
दो साँसों के तीर पर,
दो साँसों के तीर पर,
sushil sarna
कोई दुनिया में कहीं भी मेरा, नहीं लगता
कोई दुनिया में कहीं भी मेरा, नहीं लगता
Shweta Soni
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
Dr Tabassum Jahan
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन एक यथार्थ
जीवन एक यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
"वाह रे जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
शेखर सिंह
क्यों मानव मानव को डसता
क्यों मानव मानव को डसता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
A daughter's reply
A daughter's reply
Bidyadhar Mantry
यादें
यादें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*वैज्ञानिक विद्वान सबल है, शक्तिपुंज वह नारी है (मुक्तक )*
*वैज्ञानिक विद्वान सबल है, शक्तिपुंज वह नारी है (मुक्तक )*
Ravi Prakash
लौट चलें🙏🙏
लौट चलें🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मन की गाँठें
मन की गाँठें
Shubham Anand Manmeet
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
कवि रमेशराज
بدل گیا انسان
بدل گیا انسان
Ahtesham Ahmad
..
..
*प्रणय प्रभात*
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
Dr MusafiR BaithA
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ता थैया थैया थैया थैया,
ता थैया थैया थैया थैया,
Satish Srijan
2532.पूर्णिका
2532.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित
Sanjay ' शून्य'
तन्हाई
तन्हाई
Sidhartha Mishra
योग की महिमा
योग की महिमा
Dr. Upasana Pandey
*मन के मीत किधर है*
*मन के मीत किधर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...