Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2018 · 1 min read

जबसे साईं से लौ लगाई है

जबसे साईं से लौ लगाई है
हर ख़ुशी मेरे दर पे आई है
हर ख़ुशी मेरे दर पे…….

मैंने बाबा से कुछ भी माँगा नहीं
बिन कहे हर मुराद पाई है //१.//
हर ख़ुशी मेरे दर पे…….

अश्क पोंछे जो दीन दुखियों के
ज़िंदगी मेरी मुस्कुराई है //२.//
हर ख़ुशी मेरे दर पे…….

ज्ञान की रौशनी में उतरे तो
ज़िंदगी मेरी जगमगाई है //३.//
हर ख़ुशी मेरे दर पे…….

Language: Hindi
Tag: गीत
242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
# कुछ देर तो ठहर जाओ
# कुछ देर तो ठहर जाओ
Koमल कुmari
☀️ओज़☀️
☀️ओज़☀️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
गलती अगर किए नहीं,
गलती अगर किए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
"घातक"
Dr. Kishan tandon kranti
शायरी का बादशाह हूं कलम मेरी रानी अल्फाज मेरे गुलाम है बाकी
शायरी का बादशाह हूं कलम मेरी रानी अल्फाज मेरे गुलाम है बाकी
Ranjeet kumar patre
विनती
विनती
Kanchan Khanna
Red is red
Red is red
Dr. Vaishali Verma
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
कुछ औरतें खा जाती हैं, दूसरी औरतों के अस्तित्व । उनके सपने,
कुछ औरतें खा जाती हैं, दूसरी औरतों के अस्तित्व । उनके सपने,
पूर्वार्थ
*जो कुछ तुमने दिया प्रभो, सौ-सौ आभार तुम्हारा(भक्ति-गीत)*
*जो कुछ तुमने दिया प्रभो, सौ-सौ आभार तुम्हारा(भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
The Moon and Me!!
The Moon and Me!!
Rachana
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
Sunil Maheshwari
और क्या ज़िंदगी का हासिल है
और क्या ज़िंदगी का हासिल है
Shweta Soni
लोग तो मुझे अच्छे दिनों का राजा कहते हैं,
लोग तो मुझे अच्छे दिनों का राजा कहते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उत्तर
उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
मेरे जैसा
मेरे जैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
🙅सटीक समीक्षा🙅
🙅सटीक समीक्षा🙅
*प्रणय प्रभात*
A daughter's reply
A daughter's reply
Bidyadhar Mantry
3282.*पूर्णिका*
3282.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये चांद सा महबूब और,
ये चांद सा महबूब और,
शेखर सिंह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
The_dk_poetry
गर्म स्वेटर
गर्म स्वेटर
Awadhesh Singh
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
जिन्दगी का मामला।
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
ये माना तुमने है कैसे तुम्हें मैं भूल जाऊंगा।
ये माना तुमने है कैसे तुम्हें मैं भूल जाऊंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...