Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

*जन्म लिया है बेटी ने तो, दुगनी खुशी मनाऍं (गीत)*

जन्म लिया है बेटी ने तो, दुगनी खुशी मनाऍं (गीत)
……………….……………………..
जन्म लिया है बेटी ने तो, दुगनी खुशी मनाऍं
(1)
नए दौर की सुगढ़ बेटियॉं, बेटों से बढ़कर हैं
पढ़ी-लिखी होती बेटों से, ज्यादा यह अक्सर हैं
नहीं पराया धन हैं बेटी, यह सबको समझाऍं
(2)
चूल्हा-चौका बात पुरानी , अब नवयुग है आया
अफसर-वैज्ञानिक अब बेटी, जग में नाम कमाया
पालन-पोषण करें इस तरह, बेटे सब ललचाऍं
(3)
अब बेटी हर एक क्षेत्र में, बढ़ती आगे पाओ
बेटी किंचित कम मत समझो, इस से वंश चलाओ
दॉंव-पेंच दुनियादारी के, बेटी को सिखलाऍं
जन्म लिया है बेटी ने तो, दुगनी खुशी मनाऍं
__________________________________
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा , रामपुर उ.प्र.
मोबाइल 99976 15451

234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
बीज अंकुरित अवश्य होगा
बीज अंकुरित अवश्य होगा
VINOD CHAUHAN
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
पूर्वार्थ
फिर पर्दा क्यूँ है?
फिर पर्दा क्यूँ है?
Pratibha Pandey
*पेट-भराऊ भोज, समोसा आलूवाला (कुंडलिया)*
*पेट-भराऊ भोज, समोसा आलूवाला (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पसोपेश,,,उमेश के हाइकु
पसोपेश,,,उमेश के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
न किसी से कुछ कहूँ
न किसी से कुछ कहूँ
ruby kumari
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
यह दुनिया भी बदल डालें
यह दुनिया भी बदल डालें
Dr fauzia Naseem shad
शिकवा
शिकवा
अखिलेश 'अखिल'
मजबूरी तो नहीं
मजबूरी तो नहीं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
कविता - 'टमाटर की गाथा
कविता - 'टमाटर की गाथा"
Anand Sharma
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
नूरफातिमा खातून नूरी
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
3373⚘ *पूर्णिका* ⚘
3373⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
लाख कोशिश की थी अपने
लाख कोशिश की थी अपने
'अशांत' शेखर
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"बड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Sakshi Tripathi
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
Ravi singh bharati
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
हरवंश हृदय
किसान की संवेदना
किसान की संवेदना
Dr. Vaishali Verma
तेरी महबूबा बनना है मुझे
तेरी महबूबा बनना है मुझे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#अग्रिम_शुभकामनाएँ
#अग्रिम_शुभकामनाएँ
*Author प्रणय प्रभात*
*
*"माँ वसुंधरा"*
Shashi kala vyas
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...