Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2023 · 1 min read

*जन्म या बचपन में दाई मां या दाया,या माता पिता की छत्र छाया

*जन्म या बचपन में दाई मां या दाया,या माता पिता की छत्र छाया में बचपन बीतता है,युवा अवस्था में माया घेर लेती है।बुढ़ापे में काया याने शरीर में रोग कष्ट घेर लेती है।⭐✨🌟🌹🙏 जय श्री राधे

424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ज़माने   को   समझ   बैठा,  बड़ा   ही  खूबसूरत है,
ज़माने को समझ बैठा, बड़ा ही खूबसूरत है,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
To improve your mood, exercise
To improve your mood, exercise
पूर्वार्थ
"जानिब"
Dr. Kishan tandon kranti
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
एक किस्सा तो आम अब भी है,
एक किस्सा तो आम अब भी है,
*Author प्रणय प्रभात*
*राम भक्ति नवधा बतलाते (कुछ चौपाइयॉं)*
*राम भक्ति नवधा बतलाते (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
Manisha Manjari
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
⚜️गुरु और शिक्षक⚜️
⚜️गुरु और शिक्षक⚜️
SPK Sachin Lodhi
* मन कही *
* मन कही *
surenderpal vaidya
नारी को मानसिक रूप से
नारी को मानसिक रूप से
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-231💐
💐प्रेम कौतुक-231💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
Rj Anand Prajapati
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
Ritu Asooja
कृपा करें त्रिपुरारी
कृपा करें त्रिपुरारी
Satish Srijan
दीवारों में दीवारे न देख
दीवारों में दीवारे न देख
Dr. Sunita Singh
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
किरायेदार
किरायेदार
Keshi Gupta
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
shabina. Naaz
कट्टर ईमानदार हूं
कट्टर ईमानदार हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कागज ए ज़िंदगी............एक सोच
कागज ए ज़िंदगी............एक सोच
Neeraj Agarwal
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
Bhupendra Rawat
Tu itna majbur kyu h , gairo me mashur kyu h
Tu itna majbur kyu h , gairo me mashur kyu h
Sakshi Tripathi
कया बताएं 'गालिब'
कया बताएं 'गालिब'
Mr.Aksharjeet
स्वतंत्रता की नारी
स्वतंत्रता की नारी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...