Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2016 · 3 min read

जन्माष्टमी पर्व: प्रासंगिकता ——————- —————

किसी भी वस्तु , तथ्य या बात की प्रासंगिकता इस बात पर निर्भर करती है कि तत्कालीन परिस्थितियों में वह बात , तथ्य या वस्तु कितनी उपयोगी हो सकती है।

द्वापर युग में जन्मे श्रीकृष्ण के नाम का ध्यान मात्र ही उनकी विविध कलाओं और लीलाओं का बोध सुखद अनुभूति कराता है कृष्ण केवल अवतार मात्र न थे , अपितु एक युगनिर्माता , पथप्रदर्शक , मार्गदर्शक एवं प्रबंधक गुरू भी थे ।सांस्कृतिक मूल्यों का विलुप्त होना या प्रासंगिकता खो देना युग विशेष की माँग होता है । झूठ , मक्कारी , भ्रष्टाचार , आतंकवाद , धन्धेखोरी , रेप वर्तमान अराजकता की स्थिति में कृष्ण का दर्शन अथवा कृष्ण द्वारा कही बातें आज भी कितनी उपादेय हो सकती है यह महत्त्वपूर्ण बात है ।

जीवन और मृत्यु के बीच संघर्ष को कम कैसे किया जाए असंख्य तनावों के बावजूद जीवन को समरसता की स्थिति में कैसे ला कर जीने योग्य बनाया जायें । ऐसे कुछ तथ्य एवं बातें है जो द्वापर युग में कृष्ण ने अपने दर्शन द्वारा बतायी आज भी उपयोगी हो सकती है।

इस लोकतन्त्रात्मक व्यवस्था में भ्रष्टाचार एवं भ्रष्टाचारी शासकों से मुक्ति कैसे पायी जाए यह जानने के सन्दर्भ में प्रस्तुत रूप से कृष्ण का दर्शन उपादेय है । अन्याय के विरोध में आवाज उठाते हुए अत्याचारी शासक की नीतियों का दमन
करना चाहिए जैसे कृष्ण ने कंस की नीतियों का दमन किया । प्राय: हर युग में ऐसा होता है जब कोई शासक अनीति पर चलता है तो जनता उसकी नीतियों का पर्दाफाश कर विद्रोही आवाज उठाती है उसका दमन करती है ।

नवसृजन एवं नवकल्याण के प्रणेता कर्मयोग की शिक्षा देने के साथ कर्तव्य बोध एवं जिम्मेदारियों के निर्वहन की भी शिक्षा
देती है “निष्काम कर्म “” करने की जो प्रेरणा कृष्ण ने दी वह तनाव एवं कुण्ठा से मुक्ति दिला सकती है आज युवा वर्ग कर्म के फल की इच्छा महतीय स्थान रखती है वही उसके क्रियाकलापों का केन्द्र बिन्दु है यदि वह निष्काम भाव से कार्य करें तो युवा वर्ग अपराध बोध आदि कुत्सित वर्जनाओं से छुटकारा पा सकता है ।

‘अमीर और गरीब ‘ की खाई को पाटने में “कृष्ण-सुदामा मैत्री ” से सम्बन्धित दर्शन उपादेय हो सकता है यदि कृष्ण की भाँति धनी वर्ग भी गरीब और निम्न आर्थिक एवं अन्य प्रकार की सहायता पहुँचा सकता है यदि द्वापरयुगीन कृष्ण – सुदामा मैत्री भाव समाज आज के समाज में दिखाई देने लगे तो वर्ग -भेद का अन्तर समाप्त हो जाए । इस समर्पण भाव के द्वारा मित्रों के बीच भी सम्बन्ध सुधर सकेगें ।

किसी भी प्रबंधन की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि उस प्रबंधन का नेता कितना उर्जावान , वाकपटु , चातुर्यवान , विवेकशील एवं नेतृत्व व्यक्तित्व वाला है । एक प्रबन्धक में व्यवस्था के समस्त कर्मचारियों को एक सूत्र में पिरोकर चलने का गुण होना चाहिए ।

इसके साथ छोटी – मोटी हरकत को नजरअन्दाज कर अच्छे कार्य के लिए फीडबैक देना चाहिए , गलत करने पर दण्ड का प्रावधान ऐसा हो कि अन्य लोगों को सीख मिलें । कृष्ण भगवान रण क्षेत्र में अर
र्जुन को नैतिकता एवं अनैतिकता का पाठ पढाते हुए
उसे युद्ध के लिए तैयार करते है । वर्तमान में शिक्षक नैतिक तथा अनैतिक बात में अन्तर बता कर छात्र को सही मार्ग पर ला सकते है ।

कला एवं संगीत प्रेमी कृष्ण का बासुरी प्रेम वर्तमान काष्ठ कला के विकास की ओर इंगित करता है मोर पंख धारण करना उनकी ललित कला के प्रति पारखी दृष्टि तथा गाय प्रेम पशुधन की ओर संकेत करता है ।

गौधन रक्षा के द्वारा आजीविका चलायी जा सकती है साथ ही अपनी सांस्कृतिक विरासत की रक्षा भी की जा सकती है । आज भी हम गोबर से लीपे घर देखते है ।

इस प्रकार हम देखते है कि आज की परिस्थितियों में यदि कृष्ण भगवान के द्वारा बतायी हुई बातों का अनुसरण किया जाए तो काफी हद तक तनाव एवं विक्षोभ को कम किया जा सकता है तथा युवा वर्ग के बीच अकल्पित वर्जनाओं को समाप्त किया जा सकता है ।

Language: Hindi
Tag: लेख
68 Likes · 309 Views
You may also like:
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ख्वाब
Anamika Singh
मरने की इजाज़त
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिन्द की तलवार हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भारतीय सभ्यता की दुर्लब प्राचीन विशेषताएं ।
Mani Kumar Kachi
तुम मुझे भूल थोड़ी जाओगे
Dr fauzia Naseem shad
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
नव गीत
Sushila Joshi
चुनावी हथकंडे
Shekhar Chandra Mitra
कहां है, शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है।
Dushyant Kumar
तमाम उम्र।
Taj Mohammad
✍️एक ख़ुर्शीद आया✍️
'अशांत' शेखर
अमृत महोत्सव मनायेंगे
नूरफातिमा खातून नूरी
विरासत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
'क्या लिखूँ, कैसे लिखूँ'?
Godambari Negi
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
आज बच्चों के हथेली पर किलकते फोन हैं।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
विचार
मनोज शर्मा
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सच कहते हैं, जिम्मेदारियां सोने नहीं देती
Seema 'Tu hai na'
शब्दों के अर्थ
सूर्यकांत द्विवेदी
ये संघर्ष
Ray's Gupta
बदलते मौसम
Dr Archana Gupta
अमृत महोत्सव
Mahender Singh Hans
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
मानव तन
Rakesh Pathak Kathara
*अपने पैरों पर चला (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
मेरा आजादी का भाषण
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
उसकी दाढ़ी का राज
gurudeenverma198
Loading...