Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2023 · 1 min read

जज़्बात

हम सभी के जीवन में जज़्बात होते हैं।
जीने और चाहत के सफर में हम होते हैं।

सच तो जज्बातों के अपने विचार होते हैं।
हम तुम और कभी वो भी साथ रहते हैं।

जिंदगी के सफर में हम जज्बातों के साथ है।
आज सच और झूठ फरेब के रिश्ते होते हैं।

बस जज़्बात ही तो हम सभी के साथ होते हैं।
इस जीवन का सच तो यही बस एक होता हैं।

जज्बातों के साथ साथ हमारे रंगमंच पर किरदार हैं।
हां हम सभी की अपनी जिंदगी और सोच होती हैं।

अपने अपने जज्बात हम सभी सही समझते हैं।
कभी कभी दूसरों के एहसास भी हम रखते हैं।

आओ जज्बातों के साथ जीवन में रंग भरते हैं।
अपने मनोभावों का सच और हकीकत कहते हैं।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
Rekha Drolia
भारत बनाम इंडिया
भारत बनाम इंडिया
Harminder Kaur
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
कवि दीपक बवेजा
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (2)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (2)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
You come in my life
You come in my life
Sakshi Tripathi
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सदा बेड़ा होता गर्क
सदा बेड़ा होता गर्क
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
।। धन तेरस ।।
।। धन तेरस ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
******शिव******
******शिव******
Kavita Chouhan
#सन्देश...
#सन्देश...
*Author प्रणय प्रभात*
"प्यार तुमसे करते हैं "
Pushpraj Anant
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
Anil chobisa
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
विमला महरिया मौज
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
स्वप्न बेचकर  सभी का
स्वप्न बेचकर सभी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
Monika Verma
"सावधान"
Dr. Kishan tandon kranti
कुंडलिया ....
कुंडलिया ....
sushil sarna
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
पूर्वार्थ
3236.*पूर्णिका*
3236.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
व्याकुल तू प्रिये
व्याकुल तू प्रिये
Dr.Pratibha Prakash
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
कलियुग है
कलियुग है
Sanjay ' शून्य'
मुकद्दर तेरा मेरा
मुकद्दर तेरा मेरा
VINOD CHAUHAN
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...