Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 1 min read

जगदाधार सत्य

भिन्न नहीं जगदीश जगत से, हैं अभिन्न कवि कविता जैसे।
जगदाधार सत्य, जग मिथ्या, पर विश्वास करूॅं मैं कैसे?

कहता है अध्यात्म सिन्धु में, बाड़वाग्नि का वास चिरन्तन।
दिखती हैं वीचियाॅं सतह पर, भीतर अविरल चलता मन्थन।।
रत्नों का अम्बार अतल में, कुछ मिल पाता जैसे – तैसे।
जगदाधार सत्य, जग मिथ्या, पर विश्वास करूॅं मैं कैसे?

नाना विहग गगन में उड़ते, भिन्न-भिन्न हैं सबकी गतियाॅं।
अहोरात्रि चलती रहती हैं, जगदीश्वर की सब गतिविधियाॅं।।
सूरज चाॅंद सितारे जगमग, वर्षों से वैसे के वैसे ।
जगदाधार सत्य, जग मिथ्या, पर विश्वास करूॅं मैं कैसे?

परमात्मा सर्वत्र कर्मरत, पर्वत-शिखर मरुस्थल भू-तल।
उदयाचल से अस्ताचल तक, विद्यमान है उसकी हलचल।।
क्रेता – विक्रेता दोनों ही, देते – लेते रुपए – पैसे ।
जगदाधार सत्य जग मिथ्या, पर विश्वास करूॅं मैं कैसे?

उसमें भी है वास उसी का, जो असत्य की कसमें खाता।
जब असत्य से भिड़ना पड़ता, तभी सत्य जग में जय पाता।।
सत्य धर्म कहलाता तब ही, जब लड़ता अन्याय अनै से ।
जगदाधार सत्य, जग मिथ्या, पर विश्वास करूॅं मैं कैसे?

तीन लोक, चौदह भुवनों में, होती जिसकी जयजयजय है।
जो उसके आश्रित हैं उनको, कहीं न कोई किंचित भय है।।
वही सत्य से हुए सुपरिचित, पर कम ही हैं प्राणी ऐसे।
जगदाधार सत्य, जग मिथ्या, पर विश्वास करूॅं मैं कैसे?

महेश चन्द्र त्रिपाठी

4 Likes · 2 Comments · 51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महेश चन्द्र त्रिपाठी
View all
You may also like:
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
DrLakshman Jha Parimal
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
Rj Anand Prajapati
फितरत................एक आदत
फितरत................एक आदत
Neeraj Agarwal
***
*** " तुम आंखें बंद कर लेना.....!!! " ***
VEDANTA PATEL
जब से हैं तब से हम
जब से हैं तब से हम
Dr fauzia Naseem shad
"बन्धन"
Dr. Kishan tandon kranti
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
gurudeenverma198
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं चोरी नहीं करता किसी की,
मैं चोरी नहीं करता किसी की,
Dr. Man Mohan Krishna
विश्वास
विश्वास
Bodhisatva kastooriya
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
ruby kumari
रमेशराज के नवगीत
रमेशराज के नवगीत
कवि रमेशराज
ଆପଣ କିଏ??
ଆପଣ କିଏ??
Otteri Selvakumar
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
SURYA PRAKASH SHARMA
किसी का भी असली किरदार या व्यवहार समझना हो तो ख़ुद को या किसी
किसी का भी असली किरदार या व्यवहार समझना हो तो ख़ुद को या किसी
*Author प्रणय प्रभात*
2671.*पूर्णिका*
2671.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* जब लक्ष्य पर *
* जब लक्ष्य पर *
surenderpal vaidya
अज़ल से इंतजार किसका है
अज़ल से इंतजार किसका है
Shweta Soni
खुशियों की सौगात
खुशियों की सौगात
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पूछो ज़रा दिल से
पूछो ज़रा दिल से
Surinder blackpen
जब  फ़ज़ाओं  में  कोई  ग़म  घोलता है
जब फ़ज़ाओं में कोई ग़म घोलता है
प्रदीप माहिर
चलते-चलते...
चलते-चलते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
हम तो अपनी बात कहेंगें
हम तो अपनी बात कहेंगें
अनिल कुमार निश्छल
Sometimes a thought comes
Sometimes a thought comes
Bidyadhar Mantry
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
"आभास " हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...