Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य जन्मोत्सव

आक्रांताओं का उत्पात मचा था, धर्म था गहरे संकट में
समाज टूट कर बिखर रहा था, ऊंच नीच के झंझट में
संकट की इन घड़ियों में, रामानंदाचार्य स्वामी आए
राम नाम के महा मंत्र से, दुनिया को मार्ग बताए
राम नाम के महा मंत्र से,नई चेतना आई
रामानंदीय संप्रदाय ने, दुनिया में अलख जगाई
सामाजिक समभाव बढ़ाया, धर्म का मान बढ़ाया
राम नाम का परम प्रकाश,जन जन तक पहुंचाया
रामानंदीय संतों ने राम भक्ति के कीर्तिमान गढ़े
मठ-मंदिर जन कल्याण के, काम किए हैं बड़े बड़े
७५० बर्ष से जिनने धर्म ध्वजा थामी है
मानवता को राह दिखाई, जिनका नहीं कोई शानी है
श्री चरणों में नमन नाथ,हम बालक अज्ञानी हैं
जय सियाराम जी 🎉🎉🙏🙏🎉🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
मैं घमंडी नहीं हूँ
मैं घमंडी नहीं हूँ
Dr. Man Mohan Krishna
अमर्यादा
अमर्यादा
साहिल
दो अनजाने मिलते हैं, संग-संग मिलकर चलते हैं
दो अनजाने मिलते हैं, संग-संग मिलकर चलते हैं
Rituraj shivem verma
निराशा एक आशा
निराशा एक आशा
डॉ. शिव लहरी
मिर्जा पंडित
मिर्जा पंडित
Harish Chandra Pande
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
नूरफातिमा खातून नूरी
बस नेक इंसान का नाम
बस नेक इंसान का नाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
पितृ स्तुति
पितृ स्तुति
गुमनाम 'बाबा'
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
Shweta Soni
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
ruby kumari
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
shabina. Naaz
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
एकांत चाहिए
एकांत चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
3145.*पूर्णिका*
3145.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Love is
Love is
Otteri Selvakumar
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
इश्क समंदर
इश्क समंदर
Neelam Sharma
घाव
घाव
अखिलेश 'अखिल'
तौलकर बोलना औरों को
तौलकर बोलना औरों को
DrLakshman Jha Parimal
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
Paras Nath Jha
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
कवि रमेशराज
मकर संक्रांति पर्व
मकर संक्रांति पर्व
Seema gupta,Alwar
"" *समय धारा* ""
सुनीलानंद महंत
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
डॉक्टर रागिनी
आज फिर उनकी याद आई है,
आज फिर उनकी याद आई है,
Yogini kajol Pathak
सोच और हम
सोच और हम
Neeraj Agarwal
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
gurudeenverma198
Loading...