Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

“जंगल की सैर”

“जंगल की सैर”
••••••••••••••••

आओ, ‘जंगल की सैर’ कराऊॅं;
जंगली जीव,के बारे में बताऊॅं।
वे हैं,एक-दूजे के जानी दुश्मन;
जंगल में न लगता, उनको मन।
बोझ बनता,जब उनका जीवन;
तोड़ दे,निज चेहरे वाला दर्पण।
तब दिन में देखे वे, एक सपना;
पूरा साम्राज्य , हो जाए अपना।
फिर, सबसे पहले ‘कुत्ता’ भौंके;
सुन,देशी-विदेशी ‘बिल्ली’ चौंके।
तभी,सभी सोता ‘लोमड़ी’ जागे;
एक ‘गदहे’ को, कर दे वो आगे।
दिखाने लगे वो,आपस में प्यार;
एक-दूजे पे मिटने,वे सब तैयार।
सब छोड़े, निज जंगली नफरत;
फिर, चढ़ना चाहे वे ऊंची पर्वत।
वहीं बनाते सब,अपनी सरकार;
वहां दिखा, बब्बर शेर होशियार।
आनन-फानन में,सब उल्टे भागे;
सुनकर,’हिंद के सिंह’ की दहाड़।
फिर एक-दूजे को,वे सब खटके;
जहां-तहां, सब ही सालों भटके।
हो जाते हैं वे,ऐसे ही सदा बेकार;
रंग-बिरंगी.सारे संगी,रंगा सियार।
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°′°°

स्वरचित सह मौलिक;
……✍️पंकज कर्ण
……कटिहार(बिहार)

Language: Hindi
209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
प्यार की भाषा
प्यार की भाषा
Surinder blackpen
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
2483.पूर्णिका
2483.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*नींद आँखों में  ख़ास आती नहीं*
*नींद आँखों में ख़ास आती नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जल धारा में चलते चलते,
जल धारा में चलते चलते,
Satish Srijan
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
उदयमान सूरज साक्षी है ,
उदयमान सूरज साक्षी है ,
Vivek Mishra
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
gurudeenverma198
The Hard Problem of Law
The Hard Problem of Law
AJAY AMITABH SUMAN
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
पता नहीं किसने
पता नहीं किसने
Anil Mishra Prahari
प्रेस कांफ्रेंस
प्रेस कांफ्रेंस
Harish Chandra Pande
नये पुराने लोगों के समिश्रण से ही एक नयी दुनियाँ की सृष्टि ह
नये पुराने लोगों के समिश्रण से ही एक नयी दुनियाँ की सृष्टि ह
DrLakshman Jha Parimal
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"पँछियोँ मेँ भी, अमिट है प्यार..!"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
Arvind trivedi
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"सुनो"
Dr. Kishan tandon kranti
जब होती हैं स्वार्थ की,
जब होती हैं स्वार्थ की,
sushil sarna
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Bodhisatva kastooriya
#संशोधित_बाल_कविता
#संशोधित_बाल_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
*आवारा कुत्ते हुए, शेरों-से खूंखार (कुंडलिया)*
*आवारा कुत्ते हुए, शेरों-से खूंखार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उस दिन पर लानत भेजता  हूं,
उस दिन पर लानत भेजता हूं,
Vishal babu (vishu)
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
Rj Anand Prajapati
रससिद्धान्त मूलतः अर्थसिद्धान्त पर आधारित
रससिद्धान्त मूलतः अर्थसिद्धान्त पर आधारित
कवि रमेशराज
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
कवि दीपक बवेजा
नये साल में
नये साल में
Mahetaru madhukar
So many of us are currently going through huge energetic shi
So many of us are currently going through huge energetic shi
पूर्वार्थ
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...