Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2023 · 1 min read

*छोड़ें मोबाइल जरा, तन को दें विश्राम (कुंडलिया)*

छोड़ें मोबाइल जरा, तन को दें विश्राम (कुंडलिया)
_________________________
छोड़ें मोबाइल जरा, तन को दें विश्राम
थोड़ा-सा कम लीजिए, ऑंखों से अब काम
ऑंखों से अब काम, नेत्र भारी हो जाते
उॅंगली होती जाम, अकड़ गर्दन में पाते
कहते रवि कविराय, जाल आभासी तोड़ें
सुस्ताऍं कुछ देर, तनिक मोबाइल छोड़ें
————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
कवि रमेशराज
زندگی کب
زندگی کب
Dr fauzia Naseem shad
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ-बाप की नज़र में, ज्ञान ही है सार,
माँ-बाप की नज़र में, ज्ञान ही है सार,
पूर्वार्थ
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
Dr MusafiR BaithA
ख्याल (कविता)
ख्याल (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
अबला नारी
अबला नारी
Neeraj Agarwal
जीवन में आगे बढ़ जाओ
जीवन में आगे बढ़ जाओ
Sonam Puneet Dubey
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
माँ..
माँ..
Shweta Soni
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"परोपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
*प्रणय प्रभात*
कर्म-बीज
कर्म-बीज
Ramswaroop Dinkar
वज़्न -- 2122 1122 1122 22(112) अर्कान -- फ़ाइलातुन - फ़इलातुन - फ़इलातुन - फ़ैलुन (फ़इलुन) क़ाफ़िया -- [‘आना ' की बंदिश] रदीफ़ -- भी बुरा लगता है
वज़्न -- 2122 1122 1122 22(112) अर्कान -- फ़ाइलातुन - फ़इलातुन - फ़इलातुन - फ़ैलुन (फ़इलुन) क़ाफ़िया -- [‘आना ' की बंदिश] रदीफ़ -- भी बुरा लगता है
Neelam Sharma
*पानी सबको चाहिए, सबको जल की आस (कुंडलिया)*
*पानी सबको चाहिए, सबको जल की आस (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
Rj Anand Prajapati
"किसान का दर्द"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
Kanchan Khanna
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
जिसे सपने में देखा था
जिसे सपने में देखा था
Sunny kumar kabira
रजस्वला
रजस्वला
के. के. राजीव
Loading...