Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।

छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
करऽ तईयारी राजनीतिक सफर के अपना।।
नाते प्रदेश में लेके घुमे के परी ढ़कना।।।

@जय लगन कुमार हैप्पी
बेतिया, बिहार

386 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुमसे एक पुराना रिश्ता सा लगता है मेरा,
तुमसे एक पुराना रिश्ता सा लगता है मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जीवन भर मर मर जोड़ा
जीवन भर मर मर जोड़ा
Dheerja Sharma
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
◆आज की बात◆
◆आज की बात◆
*प्रणय प्रभात*
नारी है नारायणी
नारी है नारायणी
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
Pratibha Pandey
समाधान से खत्म हों,आपस की तकरार
समाधान से खत्म हों,आपस की तकरार
Dr Archana Gupta
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
Neelam Chaudhary
The wrong partner in your life will teach you that you can d
The wrong partner in your life will teach you that you can d
पूर्वार्थ
इंसानियत
इंसानियत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
खुदा सा लगता है।
खुदा सा लगता है।
Taj Mohammad
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
पौधे मांगे थे गुलों के
पौधे मांगे थे गुलों के
Umender kumar
"इंसानियत"
Dr. Kishan tandon kranti
*मेरी रचना*
*मेरी रचना*
Santosh kumar Miri
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
Monika Verma
ऐ दिल सम्हल जा जरा
ऐ दिल सम्हल जा जरा
Anjana Savi
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
Dr. Upasana Pandey
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
Sunil Maheshwari
* धन्य अयोध्याधाम है *
* धन्य अयोध्याधाम है *
surenderpal vaidya
3274.*पूर्णिका*
3274.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब तो आओ न
अब तो आओ न
Arti Bhadauria
स्त्री जब
स्त्री जब
Rachana
*गाओ हर्ष विभोर हो, आया फागुन माह (कुंडलिया)
*गाओ हर्ष विभोर हो, आया फागुन माह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
Kirti Aphale
Loading...