Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली

छोटे गाँव का लड़का था मैं
वो बड़े शहर वालीं थी
सपने थे छोटे मेरे
वो आसमान को चाहती थी

बाहर से जैसी दिखती वो
अंदर भी वैसी रहती थी
पहनती थी simple कपड़े बहुत
चेहरे पर सादगी सजती थी

बड़ी-बड़ी कठिनाईयों का मैं
हंसकर कर सामना करता था
छोटी-छोटी मुश्किलों से वो
एकदम घबरा जाती थी

गाँव का ग्वार था मैं
वो शहर की सयानी थी
करता मैं राम-राम सबको
वो हैलो नमस्ते वाली थी

मैं गाँव की गालियों में घूमता
वो महलों में रहती थी
खूब पसन्द था मुझे दाल-भात
वो पिज्जा खाया करती थी

मन था उसको मित्र बनाऊं
पर न करके वो चली गई
क्यूँ कि !!!!!!
छोटे गाँव का लड़का था मैं
वो बड़े शहर वालीं थी !

✍️ The_dk_poetry

1 Like · 371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"कैसे कह दें"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता-हमने देखा है
कविता-हमने देखा है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ये तलाश सत्य की।
ये तलाश सत्य की।
Manisha Manjari
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
शेखर सिंह
*तन पर करिएगा नहीं, थोड़ा भी अभिमान( नौ दोहे )*
*तन पर करिएगा नहीं, थोड़ा भी अभिमान( नौ दोहे )*
Ravi Prakash
यारा ग़म नहीं अब किसी बात का।
यारा ग़म नहीं अब किसी बात का।
rajeev ranjan
* सुखम् दुखम *
* सुखम् दुखम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बस चार ही है कंधे
बस चार ही है कंधे
Rituraj shivem verma
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Pratibha Pandey
बहुत-सी प्रेम कहानियाँ
बहुत-सी प्रेम कहानियाँ
पूर्वार्थ
गूॅंज
गूॅंज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
ये दूरियां मजबूरी नही,
ये दूरियां मजबूरी नही,
goutam shaw
ख़याल
ख़याल
नन्दलाल सुथार "राही"
वाह ग़ालिब तेरे इश्क के फतवे भी कमाल है
वाह ग़ालिब तेरे इश्क के फतवे भी कमाल है
Vishal babu (vishu)
चरित्र राम है
चरित्र राम है
Sanjay ' शून्य'
मेरा भारत जिंदाबाद
मेरा भारत जिंदाबाद
Satish Srijan
पीताम्बरी आभा
पीताम्बरी आभा
manisha
कॉटेज हाउस
कॉटेज हाउस
Otteri Selvakumar
माँ की छाया
माँ की छाया
Arti Bhadauria
छात्रों का विरोध स्वर
छात्रों का विरोध स्वर
Rj Anand Prajapati
जो  रहते हैं  पर्दा डाले
जो रहते हैं पर्दा डाले
Dr Archana Gupta
कुछ कहमुकरियाँ....
कुछ कहमुकरियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"संविधान"
Slok maurya "umang"
संतुलित रखो जगदीश
संतुलित रखो जगदीश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
shabina. Naaz
3501.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3501.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
नव्य द्वीप
नव्य द्वीप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
👍
👍
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...