Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

छोटी सी प्रेम कहानी

ख़्वाब था ये मेरा
ज़िंदगी उसके संग बितानी थी
जोश था उस वक्त बहुत
नई नई आई जवानी थी

मैं उसका दिवाना था
और वो मेरी दिवानी थी
एक छोटी सी
हमारी प्रेम कहानी थी

उसके दिल में बसता था मैं
लगती हर सुबह कितनी सुहानी थी
देखकर चेहरा उसका
कटती ख़ुशी से ये ज़िंदगानी थी

खुश थी वो भी बहुत
लग रही कोई फ़िल्मी कहानी थी
हर मोड़ पर नई खुशियाँ
हमको दे रही ये ज़िंदगानी थी

वो छाई थी मेरे दिलो दिमाग़ पर
लगता था ये जान पहचान पुरानी थी
सही समय की तलाश में था मैं
दिल की बात उसे मुझको बतानी थी

बताई जब दिल की बात उसको
कौन जाने वो बदल जानी थी
दूरियां बना ली उसने
शुरू हो गई मेरी दुख भरी कहानी थी

न जाने कैसे लग गया
ग्रहण हमारी इस कहानी पर
कुछ पता न चला
जाने कैसे वो हो गई अनजानी थी

मैं तो अब भी उसका दिवाना था
लेकिन अब वो किसी और की दिवानी थी
कहाँ कहाँ नहीं ढूँढा मैंने उसको
जाने कहाँ खो गई अब वो प्रेम कहानी थी।

12 Likes · 6 Comments · 2678 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
दिल के अहसास बया होते है अगर
दिल के अहसास बया होते है अगर
Swami Ganganiya
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
शेखर सिंह
झूठी है यह सम्पदा,
झूठी है यह सम्पदा,
sushil sarna
गरीबी की उन दिनों में ,
गरीबी की उन दिनों में ,
Yogendra Chaturwedi
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
Shweta Soni
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
Neelam Sharma
भाई
भाई
Kanchan verma
"एक नज़र"
Dr. Kishan tandon kranti
क्रेडिट कार्ड
क्रेडिट कार्ड
Sandeep Pande
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
दिल चेहरा आईना
दिल चेहरा आईना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2884.*पूर्णिका*
2884.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"बचपन याद आ रहा"
Sandeep Kumar
*जिंदगी  जीने  का नाम है*
*जिंदगी जीने का नाम है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"अदृश्य शक्ति"
Ekta chitrangini
इंसान दुनिया जमाने से भले झूठ कहे
इंसान दुनिया जमाने से भले झूठ कहे
ruby kumari
खाने पुराने
खाने पुराने
Sanjay ' शून्य'
पाया किसने आत्म को ,भाग्यवान वह कौन (कुंडलिया)
पाया किसने आत्म को ,भाग्यवान वह कौन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
🙅मेरे विचार से🙅
🙅मेरे विचार से🙅
*Author प्रणय प्रभात*
पेड़ लगाओ तुम ....
पेड़ लगाओ तुम ....
जगदीश लववंशी
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
सत्य कुमार प्रेमी
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
Pramila sultan
काश
काश
लक्ष्मी सिंह
मौसम
मौसम
surenderpal vaidya
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
Anand Kumar
कभी कभी प्रतीक्षा
कभी कभी प्रतीक्षा
पूर्वार्थ
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...