Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 3 min read

छोटी कहानी – “पानी और आसमान”

कथा- “पानी और आसमान”
डॉ तबस्सुम जहां।

सुमन ने पानी से भरे गड्ढे में झांक कर देखा। नन्ही मछलियां तैर रही हैं। इससे पहले उसने खाने की प्लेट मे ही मछली देखी थी। बारिश के पानी मे मछली देखने का यह पहला अनुभव था। कौतूहल से उसने पूछा-
“दीदी इस पानी मे मछलियां कहाँ से आईं ।”
“मछलियाँ ? ला देखूं। अरे हाँ, सचमुच ये तो मछलियाँ ही हैं। अरे-अरे थोड़ा दूर हट कर देख नही तो काट लेंगी तुझे। कुसुम ने सुमन पर अपने बड़े होने का रोब झाड़ते हुए कहा।
“‘पर टीवी में तो दिखाते हैं कि मछली समुंदर में होती है और तालाब मे।” उसने मासूमियत से कहा। “ये बादलों से गिरी हैं जैसे ओले गिरते हैं। बादल इन्हें समुंदर से अपनी झोली मे भरकर लाए और यहाँ गिरा दिया। छपाक से। शायद बादलों को किसी मछली ने काट लिया होगा। गुस्से में उन्होंने मछली को यहाँ फैंक दिया।” ग्यारह वर्षीय कुसुम ने अपना गूढ़ ज्ञान छोटी बहन सुमन को दिया।
सुमन जानती है दीदी बहुत समझदार हैं। उन्हें सब पता रहता हैं। हाय! कितनी नन्ही नन्हीं हैं। नन्हे दांतों से बादल को काट खाया इन्होंने। सुमन ने गड्ढे में झांक कर ध्यान से देखा। मछली के साथ जलराशि में उसे आकाश का प्रतिबिंब नज़र आया। नीले आंचल पर सफेद बादलों के फूल टंके हो जैसे। उसने फिर टोका
“दीदी, ये नीचे क्या है आसमान जैसा।”
“ये आसमान है पगली। नीचे वाला। पानी वाला। इसमें मत उतरना वरना डूब जाएगी नीचे।” कुसुम ने यह बात इसलिए कही थी कि कहीं उसकी बहन पानी मे कपड़े गीले न कर ले। पर सुमन पर इसका दूरगामी प्रभाव हुआ।
“अरे! यह तो बहुत गहरा है। बहुत ही गहरा।” कहीं उसका पैर न फिसल जाए। वह वहीं जम कर खड़ी हो जाती है। “कहीं आसमान मे गिर पड़ी तो कैसे निकलेगी। इसका तो तला ही नही है। बादलों में अटक गई तो ठीक है। पापा को दिख तो जाऊंगी। पर पापा निकालेंगे कैसे। इतनी लंबी रस्सी कहाँ से आएगी। रस्सी टूट गयी तब क्या होगा। मैं तो वापस आसमान में छपाक से गिर पडूँगी। सुमन को एक अज्ञात भय सताने लगता है।
“मछलियाँ आसमान में क्यो नही डूब रही दीदी?”
उसने हैरत से पूछा।
“अरे मछली को तैरना आता हैं पागल वो कैसे गिरेंगी।” कुसुम बोली।
“पर नीचे परिंदे भी तो नहींं डूब रहे दीदी। सुमन ने मासूमियत से कहा।
“अरे उन्हें उड़ना आता है वो नही डूबेंगे। जब थक जाएंगे तो नीचे से वापस आ जाएंगे। वापस अपने घोंसले में।” कुसम ने साफ किया।
सुमन जान चुकी थी कि मछलियाँ और परिंदे आसमान में नही गिर सकते। पर वह गिर सकती है। नीचे धंस सकती है। उसे आसमान में नही गिरना है। पानी से बचकर चलना है। उसने देखा सड़क पर जगह-जगह पानी भरा है जिसमे आसमान चमक रहा है। उसे सभी से बचकर चलना है। खुद को गिरने से बचाना है। बकरी और बिल्ली भी तो पानी से बचकर निकल रही हैं। उनको पता है अगर पानी के बीच से गए तो आसमान में गिर पड़ेंगे। देखा सब समझदार हैं। सबको पता है कि कब क्या करना है। कैसे बचकर चलना हैं। आसमान नीचे से सब देखता है। कौन गिरने वाला है। उसने ठान लिया कि वह पानी मे नही जाएगी। चाहे कुछ हो जाए।
कुछ दिन बाद फिर से बारिश हुई। फिर गड्ढे पानी से भरे। इस बार मछलियाँ नही थीं। शायद तैर कर थक चुकी इसलिए आसमान में डूब गईं । कहीं दिखाई भी तो नही दे रहीं। उसने नीचे झाँक कर देखा। तभी एक लड़का दौड़ता आया और तेज़ी से पानी के उस पार निकल गया। छपाक से पानी मे तरंगे कौंध गईं। कुछ देर के लिए तरंगों ने पानी से आसमान का प्रतिबिंब मिटा दिया। सुमन ने देखा लड़का आसमान मे नही गिरा। गिरता कैसे? वह तेज़ी से उसके ऊपर से जो निकल गया था। आसमान कुछ समझ ही नही पाया होगा इतनी देर में। साइकिल वाला भी तो नही डूबा इसमे। सुमन को सब समझ आ गया। अगर आसमान से बचना है तो तेज़ी से निकल जाओ। आसमान कुछ देर के लिए गायब हो जाएगा। वह अंधा हो जाएगा। उसे पता ही न चलेगा कि उसके ऊपर से कौन निकल गया।
सुमन खुश थी। घर जाकर दीदी को बताऊंगी। उसे आसमान को चकमा देना आ गया है। अब वह उसमें नहीं डूबेगी। उसे अब डरने की भी ज़रूरत नही है। दीदी उसे बहुत शाबाशी देंगी। सुमन उठी और भागती हुई पानी के गड्ढे को पार कर गयीं। वह खुश थी। वह डूबी जो नही। उसने आसमान को चकमा देना सीख लिया था।

Language: Hindi
1 Like · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम हैं कक्षा साथी
हम हैं कक्षा साथी
Dr MusafiR BaithA
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
Ram Krishan Rastogi
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
तहरीर लिख दूँ।
तहरीर लिख दूँ।
Neelam Sharma
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
Shweta Soni
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सच तुम बहुत लगती हो अच्छी
सच तुम बहुत लगती हो अच्छी
gurudeenverma198
रचना प्रेमी, रचनाकार
रचना प्रेमी, रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
हरवंश हृदय
हवाएं रुख में आ जाएं टीलो को गुमशुदा कर देती हैं
हवाएं रुख में आ जाएं टीलो को गुमशुदा कर देती हैं
कवि दीपक बवेजा
रस का सम्बन्ध विचार से
रस का सम्बन्ध विचार से
कवि रमेशराज
जीवन जितना
जीवन जितना
Dr fauzia Naseem shad
कुछ अजीब से वाक्या मेरे संग हो रहे हैं
कुछ अजीब से वाक्या मेरे संग हो रहे हैं
Ajad Mandori
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
तीन दशक पहले
तीन दशक पहले
*Author प्रणय प्रभात*
कवियों से
कवियों से
Shekhar Chandra Mitra
तेरी खुशबू
तेरी खुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पैसा होय न जेब में,
पैसा होय न जेब में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर  मौन  प्रभात ।
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर मौन प्रभात ।
sushil sarna
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
शब्द : दो
शब्द : दो
abhishek rajak
बड़ी कालोनियों में, द्वार पर बैठा सिपाही है (हिंदी गजल/ गीति
बड़ी कालोनियों में, द्वार पर बैठा सिपाही है (हिंदी गजल/ गीति
Ravi Prakash
"सोच अपनी अपनी"
Dr Meenu Poonia
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि  ...फेर सेंसर ..
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि ...फेर सेंसर .."पद्
DrLakshman Jha Parimal
"तेरी यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-452💐
💐प्रेम कौतुक-452💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पल
पल
Sangeeta Beniwal
रोज हमको सताना गलत बात है
रोज हमको सताना गलत बात है
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...