Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2021 · 1 min read

छल

तुम मृत्यु देते स्वीकार था
छल दिया क्या द्वेष था
आन अर्पित मान अर्पित
रक्त का कण कण समर्पित
और अब क्या शेष था
विषहीन समझा तुम विषैले
क्या ये मेरा दोष था
प्रतिशोध तेरा है सही
विश्वास मेरा क्या हुआ।
मैं अडिग था उद्दीपनों में
अंतर्घात का ना भान था
विजयरथ की कामना का
ताज तेरा यूं सजा था
कुंडली के चक्र से
विषदंत का ये व्यूह था।
पर जीतकर भी हार तेरी
हे प्रिए! इसका तुझे ना ज्ञान था
मैं तो परे हूं जय विजय से
मैं तो परे हूं छल कपट से
सुन हृदय धिक्कारता कि
ना हार का है दुःख मुझे
ना जीत चाही थी कभी
जब छल हुआ तो जान पाया
क्या था तेरा
जो है तूने खो दिया
अर्जित उपार्जित ख्यतियों का
संचित समाहित वैभवों का
स्वामित्व तेरे ही लिए था।
पर लोभ से पनपे हुए छल से
सर्वस्व पाकर
विश्वास तूने खो दिया
प्यार तूने खो दिया
जो था शायद सागर सा गहरा
गिर से ऊंचा
लोभ तेरा मोह तेरा
द्वेष भी पाखंड भी
छल से भरा गागर भी तेरा
पर ना पाया
प्यार का विश्वास का
इक अल्प सा टुकड़ा हृदय का
जिसमे समाहित विश्व का
परमार्थ सारा अभिज्ञान सारा।

Language: Hindi
5 Likes · 2 Comments · 931 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विवशता
विवशता
आशा शैली
हो भासा विग्यानी।
हो भासा विग्यानी।
Acharya Rama Nand Mandal
कुछ
कुछ
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
धूल के फूल
धूल के फूल
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
Aarti sirsat
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
Shweta Soni
“सत्य वचन”
“सत्य वचन”
Sandeep Kumar
व्यंग्य कविता-
व्यंग्य कविता- "गणतंत्र समारोह।" आनंद शर्मा
Anand Sharma
आशा की एक किरण
आशा की एक किरण
Mamta Rani
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
एक युवक की हत्या से फ़्रांस क्रांति में उलझ गया ,
एक युवक की हत्या से फ़्रांस क्रांति में उलझ गया ,
DrLakshman Jha Parimal
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
Neelam Sharma
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
manjula chauhan
"साफ़गोई" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बहकी बहकी बातें करना
बहकी बहकी बातें करना
Surinder blackpen
#आंखें_खोलो_अभियान
#आंखें_खोलो_अभियान
*Author प्रणय प्रभात*
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
** वर्षा ऋतु **
** वर्षा ऋतु **
surenderpal vaidya
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Bodhisatva kastooriya
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
अधूरी हसरत
अधूरी हसरत
umesh mehra
Know your place in people's lives and act accordingly.
Know your place in people's lives and act accordingly.
पूर्वार्थ
ख्वाब सस्ते में निपट जाते हैं
ख्वाब सस्ते में निपट जाते हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हर मोड़ पर ,
हर मोड़ पर ,
Dhriti Mishra
माँ तेरे आँचल तले...
माँ तेरे आँचल तले...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कविता क़िरदार है
कविता क़िरदार है
Satish Srijan
Loading...