Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 1 min read

छन्द- सम वर्णिक छन्द ” कीर्ति “

( प्रस्तुति -3 )
112 112 112 2
सब देख रहा अपना है ।
पर झूठ भरा सपना है ।
अपना- अपना कह रोते ।
निज स्वार्थ भरे सब होते ।।
*** *** ***
पहले कुछ ज्ञात न होता ।
धन- यौवन है जब खोता ।
निज पुत्र न पास दिखाता।
दिखने भर केवल नाता ।।
*** *** ***
तन भी अपना दुख देता ।
बहु व्याधि बुला तब लेता ।
भज ‘ साधक ‘ राम सहारा ।
अपना बस एक तुम्हारा ।।

Language: Hindi
145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
शीर्षक - चाय
शीर्षक - चाय
Neeraj Agarwal
हक़ीक़त का
हक़ीक़त का
Dr fauzia Naseem shad
‘बेटी की विदाई’
‘बेटी की विदाई’
पंकज कुमार कर्ण
*** तस्वीर....!!! ***
*** तस्वीर....!!! ***
VEDANTA PATEL
गाली / मुसाफिर BAITHA
गाली / मुसाफिर BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मन में संदिग्ध हो
मन में संदिग्ध हो
Rituraj shivem verma
प्रबुद्ध कौन?
प्रबुद्ध कौन?
Sanjay ' शून्य'
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
Bhupendra Rawat
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
Rj Anand Prajapati
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
Shashi kala vyas
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
पैसा अगर पास हो तो
पैसा अगर पास हो तो
शेखर सिंह
मौज के दोराहे छोड़ गए,
मौज के दोराहे छोड़ गए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2546.पूर्णिका
2546.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब कभी उनका ध्यान, मेरी दी हुई ring पर जाता होगा
जब कभी उनका ध्यान, मेरी दी हुई ring पर जाता होगा
The_dk_poetry
मुफ्त राशन के नाम पर गरीबी छिपा रहे
मुफ्त राशन के नाम पर गरीबी छिपा रहे
VINOD CHAUHAN
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
Neelam Sharma
मेरा तेरा जो प्यार है किसको खबर है आज तक।
मेरा तेरा जो प्यार है किसको खबर है आज तक।
सत्य कुमार प्रेमी
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
आकाश महेशपुरी
पत्नी के डबल रोल
पत्नी के डबल रोल
Slok maurya "umang"
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
Paras Nath Jha
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
मेरे हिस्से सब कम आता है
मेरे हिस्से सब कम आता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
वफा करो हमसे,
वफा करो हमसे,
Dr. Man Mohan Krishna
सत्यमेव जयते
सत्यमेव जयते
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ ख़ास दिन, ख़ास दोहा
■ ख़ास दिन, ख़ास दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...