Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2024 · 1 min read

छंद मुक्त कविता : जी करता है

31— बुद्धि का उजास
^^^^^^^^^^^^^^^^^^^
विकास की होड़ में
नित्य नए तथ्यों का अविष्कार
फिसलती सीढ़ियों में
सत्य से झूठ का परिष्कार ।
हृदय की भूलभुलैया में
चक्कर काटता अहंकार
जन संख्या की भीड़ में
दिन रात बदलता आकार ।
विगत धुंधलकों में
घुला मिला सा मूर्छित आभास
पारदर्शी शीशों से
झांकता बुद्धि का उजास ।
आतुर घूमती खामोशी में
निस्तब्धता का स्पंदन
आँखों की भाषा में
करुणा का क्रंदन ।
जन- जन का जीवन
मानस की कविता
शब्द दर शब्द
पीड़ा की निस्तब्धता ।।

सुशीला जोशी
9719260777

Language: Hindi
36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी गोद में सो जाओ
मेरी गोद में सो जाओ
Buddha Prakash
भगवन नाम
भगवन नाम
लक्ष्मी सिंह
कभी जब नैन  मतवारे  किसी से चार होते हैं
कभी जब नैन मतवारे किसी से चार होते हैं
Dr Archana Gupta
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*शहर की जिंदगी*
*शहर की जिंदगी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
Taj Mohammad
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
Ranjeet kumar patre
एक छोटी सी बह्र
एक छोटी सी बह्र
Neelam Sharma
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है " रवि " समय की रफ्तार मेँ हर कोई गिरफ्तार है
Sahil Ahmad
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
■ आज की बात।
■ आज की बात।
*प्रणय प्रभात*
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
क्षणिकाएं
क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
Ravi Prakash
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
शक्ति राव मणि
जिंदगी को खुद से जियों,
जिंदगी को खुद से जियों,
जय लगन कुमार हैप्पी
आदान-प्रदान
आदान-प्रदान
Ashwani Kumar Jaiswal
मस्ती का त्योहार है होली
मस्ती का त्योहार है होली
कवि रमेशराज
शीर्षक – निर्णय
शीर्षक – निर्णय
Sonam Puneet Dubey
कुछ शब्द
कुछ शब्द
Vivek saswat Shukla
ख्वाहिशे  तो ताउम्र रहेगी
ख्वाहिशे तो ताउम्र रहेगी
Harminder Kaur
बस करो, कितना गिरोगे...
बस करो, कितना गिरोगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
काश
काश
Sidhant Sharma
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...