Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

छंद घनाक्षरी…

कृपाण घनाक्षरी-श्रीकृष्ण जन्म…

मैया की पीन पुकार, सुनते थे बारंबार,
करने पाप संहार, आए स्वयं इस बार।

छुपी प्रलय वृष्टि में, हलचल थी सृष्टि में,
दृश्य अद्भुत दृष्टि में, हुए जो प्रभु साकार।

द्वारपाल सब सोए, आगत नैन संजोए,
वक्त हार-पल पोए, खुल गए सारे द्वार।

मिला सुखद संदेश, खिला नया परिवेश,
हर्षित देव-देवेश, करते जै जयकार।

मनहरण घनाक्षरी…

रहिए न दूर-दूर, नज़रें मिलें हुजूर
कहनी बात दिल की, जरा पास आइए ।

दुनिया बड़ी बेवफा, हर वक्त रहे खफा
जाने भी दें इसकी, बात में न आइए ।

माना हम दीवाने हैं, सत्य से अनजाने हैं,
मनाएँ कैसे दिल को, कुछ तो सुझाइए ।

दुनिया है आनी-जानी, रह जाती है कहानी,
बढ़ाइए हाथ और, गले से लगाइए।

© डॉ. सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद (उ.प्र.)

Language: Hindi
3 Likes · 90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
Lines of day
Lines of day
Sampada
*पेड़*
*पेड़*
Dushyant Kumar
बचपन अपना अपना
बचपन अपना अपना
Sanjay ' शून्य'
आराधना
आराधना
Kanchan Khanna
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
नए दौर का भारत
नए दौर का भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
Vijay kumar Pandey
जीवन
जीवन
नन्दलाल सुथार "राही"
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
Shashi kala vyas
भर लो नयनों में नीर
भर लो नयनों में नीर
Arti Bhadauria
उनसे पूंछो हाल दिले बे करार का।
उनसे पूंछो हाल दिले बे करार का।
Taj Mohammad
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
भाई
भाई
Kanchan verma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
जीवन की गाड़ी
जीवन की गाड़ी
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
💐अज्ञात के प्रति-3💐
💐अज्ञात के प्रति-3💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2714.*पूर्णिका*
2714.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिसाब
हिसाब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पहला प्यार
पहला प्यार
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
पूर्वार्थ
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
Shyam Sundar Subramanian
"कष्ट"
नेताम आर सी
"छलनी"
Dr. Kishan tandon kranti
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
कवि दीपक बवेजा
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
Loading...