Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2022 · 1 min read

छंद:-अनंगशेखर(वर्णिक)

क्षुधा हमें दिखा रही लचारगी व खिन्नता,
परन्तु आज देश में यही दशा गरीब की।
समग्र शूल वक्ष में व चक्षु भाव शुन्य से,
निरीह रंक वेष में यही दशा गरीब की।
विकल्प हीन पंथ है सुयोग चक्षु से परे,
विकार ही विशेष में यहीं दशा गरीब की।
निदान हीन हो चला विचार से परे पड़ा,
सदा रहा स्वदेश में यही दशा गरीब की।।

✍️ संजीव शुक्ल ‘सचिन’

1 Like · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
बात उनकी क्या कहूँ...
बात उनकी क्या कहूँ...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ऑनलाइन पढ़ाई
ऑनलाइन पढ़ाई
Rajni kapoor
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
दृढ़ आत्मबल की दरकार
दृढ़ आत्मबल की दरकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
Annu Gurjar
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
Anand Kumar
शहीद दिवस
शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
Rajesh Kumar Arjun
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
पूर्वार्थ
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सिलसिले
सिलसिले
Dr. Kishan tandon kranti
🪸 *मजलूम* 🪸
🪸 *मजलूम* 🪸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
तभी भला है भाई
तभी भला है भाई
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
नानखटाई( बाल कविता )
नानखटाई( बाल कविता )
Ravi Prakash
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कभी किताब से गुज़रे
कभी किताब से गुज़रे
Ranjana Verma
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पुत्र एवं जननी
पुत्र एवं जननी
रिपुदमन झा "पिनाकी"
" मैं तन्हा हूँ "
Aarti sirsat
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
फागुन में.....
फागुन में.....
Awadhesh Kumar Singh
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
💐प्रेम कौतुक-391💐
💐प्रेम कौतुक-391💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
Shweta Soni
* रेत समंदर के...! *
* रेत समंदर के...! *
VEDANTA PATEL
#एक_गजल
#एक_गजल
*Author प्रणय प्रभात*
मजदूर
मजदूर
Harish Chandra Pande
Loading...