Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

चोरी के दोहे

चोरी के दोहे

चोरी की सापेक्षता, स्वारथ करती सिद्ध।
पल में मौसेरा बने, होने को परसिध्द।।

अपने अंतर में अगर, बैठा छिपकर चोर।
लात जोर से मारकर, कर देना कमजोर।।

मानदण्ड सबके अलग, कह दे किसको चोर?
अपने खातिर और है, उसके खातिर और।।

भिन्न भिन्न की भिन्नता, भिन्न भिन्न के चिन्ह।
बना चोर सिरमौर जहाँ, मन हो जाता खिन्न।।

बिना चोर उसको कहे, कैसे पाओ ठौर।
बतलाना ईमान तो, उसको कहना चोर।।

कविता चोरों की बढ़ी, आज बड़ी भरमार।
एक चाहिये ढूँढना, पाओ कई हजार।।

1 Like · 608 Views
You may also like:
✍️शब्दांच्या संवेदना...✍️
"अशांत" शेखर
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
बुध्द गीत
Buddha Prakash
न थी ।
Rj Anand Prajapati
✍️आत्मपरीक्षण✍️
"अशांत" शेखर
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
✍️✍️तो सूर्य✍️✍️
"अशांत" शेखर
दिल बंजर कर दिया है।
Taj Mohammad
✍️जश्न-ए-चराग़ाँ✍️
"अशांत" शेखर
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H. Amin
स्कूल का पहला दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन की बात
Rashmi Sanjay
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज बहुत दिनों बाद
Krishan Singh
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️आस्तीन में सांप✍️
"अशांत" शेखर
राम नवमी
Ram Krishan Rastogi
पिता
Surabhi bharati
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
"अशांत" शेखर
मोहब्बत में दिल।
Taj Mohammad
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Crumbling Wall
Manisha Manjari
लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
नए जूते
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...