Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

चेहरे के भाव

नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
कब तक खुद को छिपाकर रख पाओगे,
चेहरा तो है पाँच पेज की खुली किताब,
किस किस को पढ़ने से रोक पाओगे..।

चाहे चढालो घूंघट सिर पर,
या फिर बुर्का डाल लो बदन पर,
कब तक झूठी मुस्कान बिखेरोगे,
जब भी आवाज़ निकलेगी स्वर से,
अपने दिल के छिपे राज ही खोलोगे..।

एक नहीं पांच पांच उड़ते पेजों को,
कब तक एक भाव में तौलोगे,
कभी कान कुछ सुन लेगा तो
आंखों की नमी को कैसे रोकेंगे.।

भले ही रंगमंच है यह जीवन,
कथाकार भले ही कोई और हुआ,
अभिनय तो तुमको ही करना है,
उस अभिनय को झूठ में कैसे खेलोगे.।

पुरुष्कार तुम्हारा हँसी को पाना,
नकल से कब तक उसको जीतोगे,
कभी तो असलियत होगी सामने ,
उसी वक्त अपनी नीयत की परतें खुद ही खोलोगे.।

प्रशांत सोलंकी,
नई दिल्ली-07

Language: Hindi
1 Like · 464 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
सुबह का खास महत्व
सुबह का खास महत्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
शिखर के शीर्ष पर
शिखर के शीर्ष पर
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
मन नहीं होता
मन नहीं होता
Surinder blackpen
हरितालिका तीज
हरितालिका तीज
Mukesh Kumar Sonkar
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
Umender kumar
रिश्ते चंदन की तरह
रिश्ते चंदन की तरह
Shubham Pandey (S P)
जो सच में प्रेम करते हैं,
जो सच में प्रेम करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
🙏
🙏
Neelam Sharma
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
पूर्वार्थ
"नाश के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते वही अनमोल
रिश्ते वही अनमोल
Dr fauzia Naseem shad
हे गर्भवती !
हे गर्भवती !
Akash Yadav
बेटा पढ़ाओ कुसंस्कारों से बचाओ
बेटा पढ़ाओ कुसंस्कारों से बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
डीजल पेट्रोल का महत्व
डीजल पेट्रोल का महत्व
Satish Srijan
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
Keshav kishor Kumar
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
कोई बिगड़े तो ऐसे, बिगाड़े तो ऐसे! (राजेन्द्र यादव का मूल्यांकन और संस्मरण) / MUSAFIR BAITHA
कोई बिगड़े तो ऐसे, बिगाड़े तो ऐसे! (राजेन्द्र यादव का मूल्यांकन और संस्मरण) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
एक सूखा सा वृक्ष...
एक सूखा सा वृक्ष...
Awadhesh Kumar Singh
वह नही समझ पायेगा कि
वह नही समझ पायेगा कि
Dheerja Sharma
*जिंदगी*
*जिंदगी*
Harminder Kaur
कर्मगति
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
Rajesh vyas
*आते बारिश के मजे, गरम पकौड़ी संग (कुंडलिया)*
*आते बारिश के मजे, गरम पकौड़ी संग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दिल पर करती वार
दिल पर करती वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...