Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2017 · 1 min read

#### चेहरा तो लग रहा है ,,,,,,,,

**** गीत ****

सिवा आपके कुछ नज़र नहीं आता
जिधर देखता हूँ आप ही आप हो !!
आपकी तारीफ़ में कुछ ज़्यादा गर
कह जाऊँ, तो मेरी गुस्ताख़ी माफ़ हो !!
“”””””////””””””////
चेहरा तो लग रहा है गुलाब की तरह |
आँखें तो लग रही हैं शराब की तरह ||
सच कहता हूँ देखा नहीं है आपकी तरह —-

किस कल्पना से रब ने
है आपको बनाया |
है शुक्रिया ये रब का
आपको ज़मीं पर लाया ||
चमचम चमके बदन आपका चाँद की तरह —-
सच कहता हूँ…………….

ये मैं ना समझ पाऊँ
हकीकत में आप क्या है !
ज़न्नत की हूर हैं या
फूलों की नर्म पंखुरियां हैं
आप मेरे सामने हैं पर लगते ख़्वाब की तरह —
सच कहता हूँ…………….

किस नाम से बुलाऊँ
ये सोच मैं रहा हूँ |
दिल में तो बहुत कुछ है
लब रोक ले रहा हूँ ||
आपके हर रंग-रूप लगे आफ़ताब की तरह —
सच कहता हूँ……………

हैं कितनी नज़ाकत शोखियाँ
आप कितनी खूबसूरत हैं |
दिल को अब मैं कैसे मनाऊँ
आप मेरी हर जरूरत हैं ||
पल-पल हैं आप दमकते सबाब की तरह —-
सच कहता हूँ…………..

Language: Hindi
Tag: गीत
266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
दिव्य बोध।
दिव्य बोध।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
किसकी कश्ती किसका किनारा
किसकी कश्ती किसका किनारा
डॉ० रोहित कौशिक
बचपन
बचपन
Kanchan Khanna
"हाथों की लकीरें"
Ekta chitrangini
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
The_dk_poetry
चलते चलते थक गया, मन का एक फकीर।
चलते चलते थक गया, मन का एक फकीर।
Suryakant Dwivedi
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
ये अलग बात है
ये अलग बात है
हिमांशु Kulshrestha
फितरत कभी नहीं बदलती
फितरत कभी नहीं बदलती
Madhavi Srivastava
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
Sukoon
ऐसा एक भारत बनाएं
ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"तिकड़मी दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
Rainbow on my window!
Rainbow on my window!
Rachana
2825. *पूर्णिका*
2825. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
Shweta Soni
रोजी रोटी
रोजी रोटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुझे अब भी घर लौटने की चाहत नहीं है साकी,
मुझे अब भी घर लौटने की चाहत नहीं है साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तेरा-मेरा साथ, जीवन भर का...
तेरा-मेरा साथ, जीवन भर का...
Sunil Suman
जग कल्याणी
जग कल्याणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अर्थ शब्दों के. (कविता)
अर्थ शब्दों के. (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
याद रहेगा यह दौर मुझको
याद रहेगा यह दौर मुझको
Ranjeet kumar patre
*माता (कुंडलिया)*
*माता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ एक और शेर ■
■ एक और शेर ■
*प्रणय प्रभात*
it's a generation of the tired and fluent in silence.
it's a generation of the tired and fluent in silence.
पूर्वार्थ
दिल तेरी राहों के
दिल तेरी राहों के
Dr fauzia Naseem shad
* भोर समय की *
* भोर समय की *
surenderpal vaidya
Loading...