Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2023 · 2 min read

चुनाव

चुनाव
आज बस्ती के चौराहे में बहुत चहल पहल थी, किसी न्यूज चैनल से शहर के कोई न्यूज रिपोर्टर आए थे, कैमरे के सामने हाथों में माइक पकड़े हुए वो वहां के लोगों से आगामी चुनाव के बारे में सवाल पूछ रहे थे।
रामप्रसाद जो अपने काम पर जाने को निकला था उसे रोकते हुए रिपोर्टर ने पूछा….एक मिनट जरा रुकिए क्या आप हमारे कुछ सवालों के जवाब देंगे, इस पर रामप्रसाद रुक गया और कैमरा ऑन कराके रिपोर्टर ने पूछा कि कुछ दिनों बाद चुनाव होने हैं तो इससे उन्हें क्या उम्मीदें हैं। रामप्रसाद बोला साहब उम्मीदें हमें क्या होंगी, हमारा तो जीवन वैसे ही गुजरना है रोज सुबह काम पर जाओ जी तोड़ मेहनत करके अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का इंतज़ाम करो, ये चुनाव से उम्मीदें तो नेताओं को होंगी उनकी रोजी रोटी का सवाल जो है, ऐसा कहकर रामप्रसाद ने साइकिल उठाई और अपने काम पर जाने निकल गया।
सामने से आ रही एक औरत को देखकर रिपोर्टर ने कैमरामैन को फिर से तैयार रहने को कहा, फिर उन्होंने मैले कुचैले फटेहाल कपड़ों में लिपटी और गोद में एक मासूम बच्चे को संभाली हुई उस औरत को रोककर पूछा…… आपके क्षेत्र में चुनाव की घोषणा हुई है आप आने वाले चुनावों को किस नजरिए से देखती हैं। इस पर वो औरत बोल पड़ी….देखना क्या है साहब बस इन्तजार कर रहे हैं कि कब चुनाव नजदीक आए तो हमें भरपेट खाना मिले पहनने को नए कपड़े मिलें आखिर पांच साल में एक बार ही तो लोगों को हम गरीबों पर दया आती है। बाद में तो हमें कोई नहीं पूछता और हमें अपने हाल पर जीना ही होता है, कहते हुए वो आंखों में आंसू लिए अपने बच्चे को संभालती हुई अपनी झोपड़ी की ओर चल पड़ी।
अब रिपोर्टर ने गांव के चौराहे के चारों ओर नजरें दौड़ाई वहां बस्ती में उसे चारों ओर झुग्गी झोपड़ी, गरीबी, लाचारी और भुखमरी के जो दृश्य दिखे तो अब उसने वहां किसी से और कुछ पूछना उचित नहीं समझा और कैमरामैन को वापस चलने का इशारा किया।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

1 Like · 244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्तक... छंद मनमोहन
मुक्तक... छंद मनमोहन
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेकारी का सवाल
बेकारी का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पेड़ लगाओ तुम ....
पेड़ लगाओ तुम ....
जगदीश लववंशी
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
मोहक हरियाली
मोहक हरियाली
Surya Barman
दोहे
दोहे
डॉक्टर रागिनी
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
Neeraj Mishra " नीर "
अभी मेरी बरबादियों का दौर है
अभी मेरी बरबादियों का दौर है
पूर्वार्थ
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
Manisha Manjari
एक अर्सा हुआ है
एक अर्सा हुआ है
हिमांशु Kulshrestha
#यादों_का_झरोखा
#यादों_का_झरोखा
*Author प्रणय प्रभात*
मजदूर हूँ साहेब
मजदूर हूँ साहेब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
*चंद्रयान (बाल कविता)*
*चंद्रयान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
अनिल कुमार
क्यों मानव मानव को डसता
क्यों मानव मानव को डसता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बेवक़ूफ़
बेवक़ूफ़
Otteri Selvakumar
जीभ
जीभ
विजय कुमार अग्रवाल
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Suryakant Dwivedi
फ़ितरत
फ़ितरत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
लक्ष्मी सिंह
पुरानी ज़ंजीर
पुरानी ज़ंजीर
Shekhar Chandra Mitra
काले दिन ( समीक्षा)
काले दिन ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: आ स्वर की बंदिश रदीफ़ - न हुआ
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: आ स्वर की बंदिश रदीफ़ - न हुआ
Neelam Sharma
सुनो स्त्री,
सुनो स्त्री,
Dheerja Sharma
रिश्ता ख़ामोशियों का
रिश्ता ख़ामोशियों का
Dr fauzia Naseem shad
क्षितिज
क्षितिज
Dr. Kishan tandon kranti
जनमदिन तुम्हारा !!
जनमदिन तुम्हारा !!
Dhriti Mishra
Loading...